मुहूर्त व्यापार देश भर के व्यापारियों द्वारा 60 से अधिक वर्षों से पालन की जाने वाली एक रस्म है। व्यापारी समृद्धि हासिल करने और फलदायी निवेश करने के लिए बाजार में लेन-देन करना पसंद करते हैं। यह परंपरा केवल भारतीय बाजारों की विशिष्टता है।

इलेक्ट्रिक पॉलिसी : प्रशासन ने इंसेंटिव के रुप में 48.36 लाख रुपए के करीब राशि की जारी , 92 के करीब लोगों को मिला लाभ

मुहूर्त ट्रेडिंग 2022: निवेश की दिशा में आपका पहला कदम

मुहूर्त ट्रेडिंग, दिवाली के शुभ माना जाता है निवेश दौरान भारतीय स्टॉक एक्सचेंजों द्वारा आयोजित किया जाने वाला प्रतीकात्मक ट्रेडिंग सत्र है। “शुभ शुभ माना जाता है निवेश मुहूर्त” के अनुसार, बीएसई और एनएसई दोनों घंटे भर के ट्रेडिंग सत्र आयोजित करते हैं। दिवाली किसी भी नई शुरुआत के लिए शुभ समय माना जाता है। विभिन्न खंडों में अच्छी खासी खरीद ऑर्डर के साथ, बाजार का रुझान काफी सकारात्मक है। कहा जाता है कि निवेशकों को इस सत्र के दौरान ट्रेडिंग से होने वाला मुनाफ़ा पूरे वर्ष भर बना रहता है। इसके आध्यात्मिक महत्व के अलावा, यह “संवत” या पारंपरिक हिंदू पंचांग वर्ष की शुरुआत का भी प्रतीक है।

अनेक भारतीय निवेशक इस दौरान देवी लक्ष्मी के प्रति श्रद्धा भाव से स्टॉक खरीदने का निर्णय लेते हैं। इसके अलावा, पूरा त्योहारी सीजन धन-संपत्ति एवं समृद्धि पर केंद्रित होने के चलते, लोग आम तौर पर अर्थव्यवस्था और बाजारों के प्रति सकारात्मक होते हैं। इसी समयावधि में इक्विटी, कमोडिटी डेरिवेटिव, करेंसी डेरिवेटिव, इक्विटी फ्यूचर एंड ऑप्शंस, और सिक्योरिटीज लेंडिंग एंड बॉरोइंग्स (एसएलबी) जैसे विभिन्न खंडों में ट्रेडिंग होती है।

दिवाली मुहूर्त ट्रेडिंग से करे शुभ निवेश माँ लक्ष्मी के आशीर्वाद से।

मुहूर्त ट्रेडिंग शेयर बाजार में एक धार्मिक क्रिया हैं, जो की हर साल की जाती हैं। जिसमे दिवाली के दिन स्टॉक मार्किट में १ घंटे के लिए निवेश होता है,क्योंकि भारत में दिवाली के दिन मुहूर्त समय पर निवेश करना शुभ माना जाता हैं।

इसलिए शेयर बाजार में बोहोत सारे ट्रेडर और इन्वेस्टर इस समय निवेश करते हैं, इसवजह से मार्किट में इस समय काफी volatility दिखाई देती हैं।

जैसे की आप सब जानते हो के दिवाली के दिन हम लक्ष्मी माँ की पूजा करते हैं और भारतीय संस्कृती में शुभ माना जाता है निवेश लक्ष्मी माँ को धन की देवी मन जाता हैं। इस लिए मुहूर्त ट्रेडिंग में निवेश करना बोहोत शुभ माना जाता हैं पुरे साल के लिए।

Table of Contents

मुहूर्त ट्रेडिंग का इतिहास।

मुहूर्त ट्रेडिंग की शुरवात सबसे पहले १९५७ में BSE ने की थी और NSE ने १९९२ में शुरू की थी और तबसे शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग की शुरवात हुई।

मुहूर्त और दिवाली के कारण हर साल मुहूर्त ट्रेडिंग का समय और दिन बदलता रहता हैं।

इस साल मुहूर्त का समय दीवाली के दिन याने की 24th OCT 2022 को 6.15 pm से 7.15 pm के बिच होने वाला हैं।

यह आम तौर पर ३ भागो में होगा।

  • पहला होगा Opening Session जो की 6 pmसे 6.15 pm बीच होगा।
  • दूसरा होगा Trading Session 6.15 pm से 7.15 pm के बीच जिसमे ट्रेडिंग की जाएगी याने शेयर के बिच खरेदी और बिक्री की जाएगी।
  • तीसरा होगा Closing Session 7.15 pm बजे होगा।

निष्कर्ष

अगर आप शेयर बाजार में नए हो या सही निवेश का मौका ढूंढ रहे हो तो इस शुभ दिन आप अपने निवेश के शुरवात कर सकते हैं।

अगर आप को मुहूर्त ट्रेडिंग क्या होती हैं ? यह जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share करे।

।। शुभ दीपावली।।

दीपावली के दिन मुहूर्त ट्रेडिंग को शुभ क्यों माना जाता हैं ?

जैसे की आप सब जानते हो के दिवाली के दिन हम लक्ष्मी माँ की पूजा करते हैं और भारतीय संस्कृती में लक्ष्मी माँ को धन की देवी मन जाता हैं। इस लिए मुहूर्त ट्रेडिंग में निवेश करना बोहोत शुभ माना जाता हैं पुरे साल के लिए।

मुहूर्त ट्रेडिंग क्या होती हैं ?

मुहूर्त ट्रेडिंग शेयर बाजार में एक धार्मिक क्रिया हैं, जो की हर साल की जाती हैं। जिसमे दिवाली के दिन स्टॉक मार्किट में १ घंटे के लिए निवेश होता है,क्योंकि भारत में दिवाली के दिन मुहूर्त समय पर निवेश करना शुभ माना जाता हैं।

नवरात्रि में ये है निवेश की 9 सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाली जगहे

नई दिल्ली: शारदीय नवरात्रि (Navratri) के 9 पावन दिन किसी भी काम के लिए शुभ माने जाते हैं. इन दिनों में अगर आप किसी भी चीज में निवेश (शुभ माना जाता है निवेश Investment) करेंगे तो आपको उसके फायदे भी अनेक मिलेंगे. आज हम आपको बताते हैं 9 ऐसी जगहें जहां निवेश करने से आपको पैसे का कभी नुकसान (damage) नहीं होगा. इन विकल्पों में अगर आप स्मार्ट तरीके से अभी से इन्वेस्टमेंट (investment) करते हैं तो फ्यूचर में आपके पास पर्याप्त पैसे होंगे और आप भविष्य की जिम्मेदारियों (future responsibilities) को आसानी से पूरा कर सकेंगे.

1. PPF खाता खुलवाएं: इन्वेस्टमेंट के लिए पीपीएफ (PPF) यानी पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund) भी अच्छा विकल्प है. आप इसमें 1.5 लाख रुपये तक का इन्वेस्टमेंट हर साल कर सकते हैं. इसमें 15 सालों तक के लिए पैसा निवेश किया जाता है. इसमें पैसा रखने पर आप इनकम टैक्स की धारा 80C के तहत टैक्स में छूट भी पाते हैं. इस पर मिलने वाला ब्याज भी टैक्स फ्री होता है.

यह भी पढ़ें | ‘चीन लौटने का कोई सवाल ही नहीं, भारत को पसंद करता हूं’- दलाई लामा

5. पोस्ट ऑफिस की सेविंग स्कीम्स: भारत सरकार पोस्ट ऑफिस के जरिए भी कई छोटी बचत योजनाएं ऑफर करती है. इसमें आप सेविंग अकाउंट, टाइम डिपोजिट, किसान विकास पत्र, एनएससी सहित कई ऑप्शन में इन्वेस्ट कर सकते हैं. हाल ही में सरकार ने इन पर ब्‍याज दर भी बढ़ा दी है.

6. गोल्ड से मिलेगा बेहतर रिटर्न: भारत में सोना खरीदना हमेशा से ही इन्वेस्टमेंट का सबसे अच्छा विकल्प माना गया है. अगर आप इन्वेस्टमेंट का मूढ बना रहे हैं तो आप सोने में जरूर इन्वेस्ट करें.

7. बिना रिस्क के करें फिक्स्ड डिपोजिट: बैंकों में फिक्स्ड डिपोजिट एक बेहद ही सुरक्षित इन्वेस्टमेंट विकल्प है. इसमें आपको फिक्सड रिटर्न मिलता है. पोस्ट ऑफिस में FD कराना सबसे सुरक्षित माना जाता है.

8. पेंशन स्‍कीम में लगाएं पैसा: नेशनल पेंशन सिस्टम (National Pension शुभ माना जाता है निवेश System) भारत सरकार की स्कीम है. यह एक पेंशन स्कीम (रिटायरमेंट सेविंग स्कीम) है. NPS एक प्रकार की पेंशन कम इन्वेस्टमेंट स्कीम है जो कि बाजार आधारित रिटर्न की गारंटी देती है. भारत सरकार की तरफ से भारत के नागरिकों को वृ‍द्धावस्‍था सुरक्षा प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है.

रियल एस्टेट सेक्टर अब अच्छा सुधार, इन्वेस्टमेंट के लिए यह ​​​​​​​एक अच्छा समय

गुडग़ांव ब्यूरो: इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि रियल एस्टेट सेक्टर अब अच्छा सुधार कर रहा है. हमारे देश के समृद्ध सांस्कृतिक अतीत में निहित एक लंबी परंपरा के साथ एक शुभ त्योहार के रूप में दीपावली को मन जाता रहा है. यह त्यौहार धन, खुशी और समग्र दयालुता के लिए कई तरह की नई उम्मीदें लेकर आता है। चूंकि रियल एस्टेट स्वभाव से समृद्धि और सफलता से जुड़ी होती है, इसलिए कई संभावित खरीदारों को लगता है कि दीपावली उनकी नई जगह खरीदने का आदर्श समय है।

क्रेडाई एनसीआर के प्रेजिडेंट मनोज गौड़ ने कहा, “दीपावली और पूरे फेस्टिवल सीजन कई कारणों से घर खरीदने का एक अच्छा माना जाता है। सबसे पहले ये हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक का महीना शुभ हैं और ऐसी मान्यता है यह मास घर में संपत्ति और सौभाग्य को लेकर आएगा । दूसरा कारण की , डेवलपर्स घरों की खरीद/बुकिंग पर ऑफर्स , स्कीम्स और उपहारों का एक अच्छा गुलदस्ता ले कर आते हैं जिसके परिणामस्वरूप खरीदार बड़े घरों को चुनते हैं। तीसरा, संभावित खरीदार की व्यक्तिगत डिस्पोजेबल आय भी इस समय के दौरान बढ़ जाती है क्योंकि कर्मचारियों को बोनस मिलता है और इस तिमाही के दौरान व्यवसायों में भी काफी उछाल आता है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

सिद्धार्थनगर में हुआ भीषण सड़क हादसाः अनियंत्रित होकर एक बस पुलिया से गिरी नीचे, हादसे में 20 यात्री घायल

सिद्धार्थनगर में हुआ भीषण सड़क हादसाः अनियंत्रित होकर एक बस पुलिया से गिरी नीचे, हादसे में 20 यात्री घायल

सिद्धार्थनगरः तेज रफ्तार बस अनियंत्रित होकर पुलिया से गिरी नीचे, 20 यात्री घायल

सिद्धार्थनगरः तेज रफ्तार बस अनियंत्रित होकर पुलिया से गिरी नीचे, 20 यात्री घायल

इलेक्ट्रिक पॉलिसी : प्रशासन ने इंसेंटिव के रुप में 48.36 लाख रुपए के करीब राशि की जारी , 92 शुभ माना जाता है निवेश के करीब लोगों को मिला लाभ

मुहूर्त ट्रेडिंग इतना लोकप्रिय क्यों है? जानिए इस मांगलिक शेयर बाजार निवेश के विकल्पों के बारे में

Angel one logo 2021

टुडे एक्सप्रेस न्यूज़ । रिपोर्ट अजय वर्मा । 01 अप्रैल 2022: साल के त्योहारी समय में अनुभवी और नए, दोनों तरह के निवेशक दीवाली के शुभ अवसर पर मुहूर्त ट्रेडिंग की प्रतीक्षा कर रहे हैं। यह एक ट्रेडिंग विंडो है जो दिवाली की शाम 60 मिनट तक सक्रिय रहती है। व्यापारी लंबे समय से इस अनुष्ठान का पालन कर रहे हैं, और माना जाता है कि शुभ माना जाता है निवेश ‘मुहूर्त ‘ या शुभ समय के दौरान व्यापार करने से हितधारकों के लिए समृद्धि और वित्तीय वृद्धि होती है।

मुहूर्त और मुहूर्त ट्रेडिंग क्या है?
मुहूर्त एक हिंदी शब्द है जिसका अनुवाद ‘शुभ समय’ के रूप में किया जाता है। भारतीय परंपराओं के अनुसार, दीवाली पूजा के आसपास का समय पैसों के लिए सबसे अनुकूल माना जाता है। भले ही एनएसई और बीएसई जैसे एक्सचेंज हर साल मुहूर्त ट्रेडिंग का समय निर्धारित करते हैं, यह आम तौर पर दीवाली पूजा (त्योहार की शाम को आयोजित) के साथ मेल खाता है।

रेटिंग: 4.53
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 402