India’s overall exports (Merchandise and Services combined) in October 2022 are estimated to be USD 58.36 Billion, showing a positive growth of 4.03% over the same period last year: Ministry of Commerce & Industry pic.twitter.com/s2TRXcEtrh

Currency: अमेरिकी डॉलर को टक्कर देने के लिए मोदी सरकार का मास्टर प्लान, बाइडेन भी भारत के इस फैसले से हैरान!

International Trade: मोदी सरकार की ओर से हाल ही में कुछ ऐसे फैसले लिए गए हैं, जो कि रुपये को आने वाले सालों में डॉलर की तुलना में मजबूत भी कर सकते हैं. वहीं पिछले दिनों डॉलर के मुकाबले रुपये में काफी गिरावट देखने को मिली है. जिसके बाद रुपये को मजबूत करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं.अमरीकी डालर के व्यापार

Indian Currency: वर्तमान में अमेरिकी डॉलर (Dollar) की कीमत काफी महंगी है तो वहीं भारतीय रुपये की कीमत काफी सस्ती है. लेकिन अब भारतीय रुपया डॉलर से टक्कर लेने के लिए तैयार है. दरअसल, मोदी सरकार की ओर से हाल ही में कुछ ऐसे फैसले लिए गए हैं, जो कि रुपये को आने वाले सालों में डॉलर की तुलना में मजबूत भी कर सकते हैं. वहीं पिछले दिनों डॉलर के मुकाबले रुपये में काफी गिरावट देखने को मिली है. जिसके बाद रुपये को मजबूत करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. इन्हीं कदमों में से एक मोदी सरकार की ओर से इंटरनेशनल ट्रेड (International Trade) का फैसला भी लिया गया है.

जताई सहमति

दरअसल, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए अमेरिकी डॉलर को ज्यादा प्राथमिकता दी जाती रही है. हालांकि अब मोदी सरकार ने इसी अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर फैसला लिया है और भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार भारतीय रुपये में करने की संभावना तलाश अमरीकी डालर के व्यापार रहा है. इसके लिए भारत कुछ देशों से लगातार बातचीत भी कर रहा है. इस बीच कुछ देशों ने रुपये में व्यापार करने में सहमति भी जता दी है.

श्रीलंका सहमत

वहीं भारत उन देशों को तलाश रहा है, जिनके पास डॉलर की कमी है. इस क्रम में श्रीलंका अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए भारतीय रुपये का इस्तेमाल करने पर सहमत हो गया है. सेंट्रल बैंक ऑफ श्रीलंका (CBSL) ने कहा कि वह भारतीय रुपये को श्रीलंका की विदेशी मुद्रा के रूप में नामित करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मंजूरी का इंतजार कर रहा है.

भारतीय रुपये का इस्तेमाल

श्रीलंकाई बैंकों ने भारतीय रुपये में ट्रेडिंग के लिए कथित रूप से स्पेशल वोस्ट्रो रुपी अकाउंट्स या SVRA नामक स्पेशल रुपी ट्रेडिंग अकाउंट खोला है. इसके साथ ही श्रीलंका और भारत के नागरिक एक दूसरे के बीच अंतर्राष्ट्रीय लेनदेन के लिए अमेरिकी डॉलर की बजाय भारतीय रुपये का इस्तेमाल कर सकते हैं. वहीं भारत के इस कदम से अमेरिका भी हैरान है और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन जरूर भारत के इस फैसले पर नजर बनाकर रख सकते हैं.

अवसर तलाश रहा भारत

वहीं रूस भी उन देशों की लिस्ट में शामिल हो सकता है जो कि आने वाले दिनों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए भारतीय रुपये का इस्तेमाल करे. इसके अलावा भारत ताजिकिस्तान, क्यूबा, लक्समबर्ग और सूडान समेत कई दूसरों देशों में भी रुपये में कारोबार करने के अवसर तलाश रहा है. वहीं रुपये के अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा बनने से उम्मीद है कि भारत का व्यापार घाटा कम होगा और वैश्विक बाजार में इसे मजबूत करने में मदद मिलेगी.

अमेरिका-भारत द्विपक्षीय व्यापार 2025 तक 238 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच सकता है

14 July 2019 Current Affairs: यूएस इंडिया स्ट्रेटेजिक एंड पार्टनरशिप फोरम ने फैसला किया कि दोनों देशों के अमरीकी डालर के व्यापार बीच द्विपक्षीय व्यापार 2025 तक 238 बिलियन डॉलर तक पहुंच सकता है
वर्तमान 143 बिलियन डॉलर से वाणिज्यिक सगाई की वर्तमान गतिशीलता को देखते हुए।
यह वृद्धि तब होगी जब पिछले सात वर्षों से व्यापार में प्रत्येक वर्ष 7.5 प्रतिशत की वृद्धि होगी।
यूएसआईएसपीएफ की यूएस इंडिया द्विपक्षीय व्यापार रिपोर्ट का अनुमान है कि द्विपक्षीय व्यापार 283 बिलियन से 327 बिलियन अमरीकी डालर के बीच हो सकता है।
वार्षिक औसत विकास दर 10 प्रतिशत -12.5 प्रतिशत (जैसा कि 2017 और 2018 में देखा गया है)।
दोनों देशों के व्यापार गतिशीलता में नीतिगत अंतराल के कारण कई विवादास्पद मुद्दे सामने आए हैं।
2012-2016 की अवधि के लिए औसत वार्षिक आधार पर वस्तुओं और सेवाओं का कुल द्विपक्षीय व्यापार अमरीकी डालर के व्यापार 5.6 प्रतिशत बढ़ा
2017 और 2018 की दोहरे अंकों की वृद्धि दर ने 2012 और 2018 के बीच वार्षिक औसत विकास दर (एएजीआर) को 7.4 प्रतिशत तक बढ़ा दिया।
अमेरिका-भारत व्यापार संतुलन भारत के पक्ष में औसतन 3.8 प्रतिशत बढ़ा।

यूएस इंडिया स्ट्रेटेजिक एंड पार्टनरशिप फोरम के बारे में
अमेरिकी भारत सामरिक भागीदारी मंच (USISPF) अमेरिका और भारत के बीच सबसे शक्तिशाली रणनीतिक साझेदारी बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।
यह व्यापार और सरकार के नए तरीकों से एक साथ आने के बारे में है
मुख्य उद्देश्य उन सार्थक अवसरों का निर्माण करना है जो नागरिकों के जीवन को बदलने की शक्ति रखते हैं।

अक्टूबर में भारत के निर्यात में 4 फीसदी की बढ़त, 58.36 बिलियन अमरीकी डॉलर होने का अमरीकी डालर के व्यापार अनुमान

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अनुसार, यह पिछले वर्ष की इसी अवधि (अक्टूबर 2021) की तुलना में 4.03% की सकारात्मक वृद्धि दर्शाता है। पिछले साल भारत का कुल निर्यात 56.10 बिलियन अमरीकी डॉलर था।

India's exports grow by 4% in October, estimated at USD 58.36 billion | अक्टूबर में भारत के निर्यात में 4 फीसदी की बढ़त, 58.36 बिलियन अमरीकी डॉलर होने का अनुमान

अक्टूबर में भारत के निर्यात में 4 फीसदी की बढ़त, 58.36 बिलियन अमरीकी डॉलर होने का अनुमान

Highlights पिछले साल भारत का कुल निर्यात 56.10 बिलियन अमरीकी डॉलर था अक्टूबर 2022 में भारत का कुल आयात बढ़कर 73 बिलियन अमेरिकी डॉलर हुआ जो पिछले साल इसी महीने में 65.28 बिलियन अमेरिकी डॉलर था

नई दिल्ली: अक्टूबर 2022 में भारत का कुल निर्यात (मर्चेंडाइज और सर्विसेज संयुक्त) 58.36 बिलियन अमरीकी डॉलर होने का अनुमान है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अनुसार, यह पिछले वर्ष की इसी अवधि (अक्टूबर 2021) की तुलना में 4.03% की सकारात्मक वृद्धि दर्शाता है। पिछले साल भारत का कुल निर्यात 56.10 बिलियन अमरीकी डॉलर था। इसके साथ ही केंद्र सरकार का यह डेटा कहता है कि अक्टूबर 2022 में भारत का कुल आयात बढ़कर 73 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया, जो पिछले साल इसी महीने में 65.28 बिलियन अमेरिकी डॉलर था। सरकार का यह डेटा व्यापार और सेवा क्षेत्र का संयुक्त डेटा है।

India’s overall exports (Merchandise and Services combined) in October 2022 are estimated to be USD 58.36 Billion, showing a positive growth of 4.03% over the same period last year: Ministry of Commerce & Industry pic.twitter.com/s2TRXcEtrh

भारत और संयुक्‍त अरब अमीरात ने द्विपक्षीय व्‍यापार के एक सौ अरब अमरीकी डॉलर के लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने की प्रतिबद्धता दोहराई

Explore all issues of PBNS Daily Magazine Read Here.

कोविड से बचने के लिए डबल मास्क है जरूरी.

15 अगस्त से पहले अलर्ट पर खुफिया एजेंसियां, लाल किला होगा एंटी ड्रोन सिस्टम से लैस

केरल सरकार ने पॉपुलर फ्रंट के नेताओं की संपत्तियां जब्त करने में विफल रहने पर केरल उच्‍च न्‍यायालय से माफी मांगी

केरल सरकार ने प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट के नेताओं और कार्यकर्ताओं की संपत्तियों को जब्त करने में विफल रहने पर केरल उच्‍च न्‍यायालय से आज बिना शर्त माफी मांगी। पिछले 23 सितम्‍बर को पॉपुलर फ्रंट के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हड़ताल.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री की कोरोना की स्थिति पर राज्यों के स्वास्थ्य मंत्री के साथ बैठक

स्वास्थ्य मंत्री डॉक्‍टर मनसुख मांडविया कोरोना स्थिति पर राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ वर्चुअल माध्‍यम से बैठक कर रहे हैं। कुछ देशों में कोविड के बढते मामलों के मद्देनजर यह बैठक हो रही है। श्री मांडविया ने दो.

भारत और बांग्लादेश व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते को शुरू करने पर सहमत

भारत और बांग्लादेश व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते-सीईपीए पर जल्द से जल्द अमल करने के लिए बातचीत शुरू करने पर सहमत हो गए हैं। कल दिल्ली में केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और बांग्लादेश के वाणिज्य मंत्री टीपू.

डॉलर के मुकाबले रुपया आज: रुपये में शानदार तेजी, 28 पैसे चढ़ा

घरेलू शेयर बाजारों में तेजी और अमेरिका और चीन के बीच व्यापार वार्ता में सकारात्मक प्रगति के चलते रुपये को सपोर्ट मिला

rupee-2-getty

घरेलू शेयर बाजारों में तेजी और अमेरिका और चीन के बीच व्यापार वार्ता में सकारात्मक प्रगति के चलते रुपये को सपोर्ट मिला

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया आज 70.83 पर खुला. शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 71.02 पर बंद हुआ था. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को कहा था कि पहले चरण की वार्ता के तहत अमेरिका चीन के साथ एक 'बहुत महत्वपूर्ण' व्यापार समझौते पर पहुंच गया है.

इस बीच घरेलू शेयर बाजारों में तेजी से भी रुपये को मदद मिली. आज सेंसेक्स 120.08 अंकों की तेजी के साथ 38,247.16 और निफ्टी 47.70 अंक की तेजी के साथ 11,352.75 पर खुला.

मुद्रा कारोबारियों का कहना है कि विदेशी फंडों की खरीदारी और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी से भी रुपये को सहारा मिला. स्टॉक एक्सचेंज के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार, शुक्रवार को विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने घरेलू बाजारों में 749.74 करोड़ रुपये की शुद्ध खरीदारी की.

उधर, वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 0.46 फीसदी गिरकर 60.23 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था. वहीं, सुबह के कारोबार में 10 साल वाले सरकारी बॉन्ड की यील्ड 6.49 फीसदी थी.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

रेटिंग: 4.18
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 434