Caterpillar Inc (CAT)

Caterpillar शेयर (CAT शेयर) (ISIN: US1491231015) के बारे में। आप इस पृष्ठ के अनुभागों में से किसी एक में जा कर ऐतिहासिक डेटा, चार्ट्स, तकनीकी विश्लेषण तथा अन्य के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Caterpillar Inc समाचार

पीटर नर्स द्वारा Investing.com -- सोमवार, 31 अक्टूबर को प्रीमार्केट ट्रेड में फोकस में स्टॉक्स। कृपया अपडेट के लिए रिफ्रेश करें। टेस्ला (NASDAQ:TSLA) का स्टॉक 1.1% गिर गया जब.

पीटर नर्स द्वारा Investing.com -- शुक्रवार, 28 अक्टूबर को प्रीमार्केट ट्रेड में फोकस में स्टॉक्स। कृपया अपडेट के लिए रिफ्रेश करें। Amazon (NASDAQ:AMZN) ई-कॉमर्स दिग्गज द्वारा सभी.

यासीन इब्राहीम द्वारा Investing.com - कैटरपिलर और बोइंग में एक रैली के रूप में डॉव गुरुवार को उच्च स्तर पर बंद हुआ, META द्वारा निराशाजनक तिमाही परिणाम देने के बाद टेक में मार्ग को.

Caterpillar Inc विश्लेषण

S&P 500 कल लगभग 1.6% गिरकर लगभग 3,960 पर आ गया। 22 नवंबर से 3,950 पर एक अंतर है जिसे अभी भी भरने की आवश्यकता है। इसके साथ, मुझे लगता है कि मेरी "सी" लहर पूरी हो गई है, और हमने.

यह एक बड़ा हफ्ता होगा, जिसमें मंगलवार को ढेर सारे आर्थिक आंकड़े बढ़ेंगे और फिर बुधवार को और तेजी से बढ़ेंगे। जे पॉवेल 30 नवंबर को 1:30 अपराह्न ET पर सप्ताह को हाइलाइट करेंगे। मैं.

S&P 500 में करीब 60 बीपीएस की बढ़ोतरी के साथ स्टॉक कल दिन की ऊंचाई पर बंद हुआ। फेड मिनट डोविश नहीं थे, यदि आपको उनकी बात समझ में नहीं आई, जो कि टर्मिनल दर पहले की तुलना में अधिक.

Caterpillar Inc कंपनी प्रोफाइल

Caterpillar Inc कंपनी प्रोफाइल

  • प्रकार : इक्विटी
  • बाज़ार : यूनाइटेड स्टेट्स
  • आईसआईन : US1491231015
  • सीयुसआईपी : 149123101

Caterpillar Inc. manufactures and sells construction and mining equipment, diesel and natural gas engines, and industrial gas turbines. Its Construction Industries segment offers asphalt pavers, compactors, cold planers, feller bunchers, harvesters, motorgraders, pipelayers, road reclaimers, skidders, telehandlers, and utility vehicles; backhoe, knuckleboom, compact track, multi-terrain, skid steer, and track-type loaders; forestry and wheel excavators; and site prep and track-type tractors. The company’s Resource Industries segment provides electric rope and hydraulic shovels, draglines, rotary drills, hard rock vehicles, track-type tractors, mining trucks, CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? longwall miners, wheel loaders, off-highway and articulated trucks, wheel tractor scrapers, wheel dozers, landfill and soil compactors, machinery components, electronics and control systems, select work tools, and hard rock continuous mining systems. Its Energy & Transportation segment offers reciprocating engine powered generator sets; reciprocating engines and integrated systems for the power generation, marine, oil, and gas industries; turbines, centrifugal gas compressors, and related services; remanufactured reciprocating engines and components; and diesel-electric locomotives and components, and other rail-related products. The company’s Financial Products segment provides operating and finance leases, installment sale contracts, working capital loans, and wholesale financing; and insurance and risk management products. Its All Other operating segment manufactures filters and fluids, undercarriage, ground engaging tools, fluid transfer products, precision seals, and rubber sealing and connecting components; parts distribution; integrated logistics solutions and distribution services; and digital investments services. The company was formerly known as Caterpillar Tractor Co. and changed its CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? name to Caterpillar Inc. in 1986. The company was founded in 1925 and is headquartered in Deerfield, Illinois.

CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है?

Q. Consider the following statements with reference to ‘Indian Gas Exchange’:

  1. The Indian Gas Exchange operates under the regulatory framework of the Securities and Exchange Board of India (SEBI).
  2. It provides a platform for the buying and selling of domestically produced natural gas.
  3. It allows trading of natural gas only in the spot market.

Which of the statements given above is/are incorrect?

Q. 'इंडियन गैस एक्सचेंज' के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. भारतीय गैस एक्सचेंज भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के नियामक ढांचे के तहत कार्य करता है।
  2. यह घरेलू रूप से उत्पादित प्राकृतिक गैस की खरीद और बिक्री के लिए एक मंच प्रदान करता है।
  3. यह केवल स्पॉट मार्केट में प्राकृतिक गैस के व्यापार की अनुमति देता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से गलत है/हैं?

Explanation:

Indian Gas Exchange Ltd. (IGX) is India’s first automated national level gas exchange to promote and sustain an efficient and robust gas market and to foster gas trading in the country. The exchange features multiple buyers and sellers to trade in spot and forward contracts at designated physical hubs.

Statement 1 CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? is incorrect: The exchange operates under the regulatory framework of the Petroleum and Natural Gas Regulatory Board (PNGRB).

Statement 2 is incorrect: The price of domestically produced natural gas is decided by the government. It will not be sold on the gas exchange.

Statement 3 is incorrect: The IGX is a digital trading platform that will allow buyers and sellers of natural gas to trade in both the spot and forward markets for imported natural gas across three hubs : Gujarat's Dahej and Hazira, and Andhra Pradesh's Kakinada. Imported LNG will be regasified and sold to buyers through the exchange, eliminating the need for buyers and sellers to find one another.

व्याख्या:

इंडियन गैस एक्सचेंज लिमिटेड (IGX) एक कुशल और मजबूत गैस बाजार को बढ़ावा देने और बनाए रखने व देश में गैस व्यापार को बढ़ावा देने के लिए भारत का पहला स्वचालित राष्ट्रीय स्तर का गैस एक्सचेंज है। एक्सचेंज के विशेषता यह है कि इसमें निर्दिष्ट भौतिक केंद्रों पर स्पॉट और फॉरवर्ड अनुबंधों में व्यापार करने के लिए कई खरीदार और विक्रेता होते हैं।

कथन 1 गलत है: एक्सचेंज पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड (PNGRB) के नियामक ढांचे के तहत कार्य करता है।

कथन 2 गलत है: घरेलू स्तर पर उत्पादित प्राकृतिक गैस की कीमत सरकार तय करती है। इसे गैस एक्सचेंज पर नहीं बेचा जाएगा।

कथन 3 गलत है: IGX एक डिजिटल ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है जो प्राकृतिक गैस के खरीदारों और विक्रेताओं को तीन केंद्रों: गुजरात के दाहेज और हजीरा तथा आंध्र प्रदेश के काकीनाडा में आयातित प्राकृतिक गैस के लिए स्पॉट और वायदा बाजार दोनों में व्यापार करने की अनुमति देगा। आयातित LNG को एक्सचेंज के माध्यम से फिर से गैसीकृत किया जाएगा और खरीदारों को बेचा जाएगा, जिससे खरीदारों और विक्रेताओं को एक दूसरे को खोजने की आवश्यकता समाप्त हो जाएगी।

भारत जल्द शुरू करेगा गैस एक्सचेंज

पीएनजीआरबी ने इसके लिए एक सलाहकार की नियुक्ति के लिये बोलियां आमंत्रित की हैं जो भारतीय गैस विनिमय बाजार की स्थापना तथा उसकी नियामकीय रूपरेखा आदि के बारे में सलाह देगा.

भारत जल्द शुरू करेगा गैस एक्सचेंज

गैस प्लांट (प्रतीकात्मक फोटो)

भारत सरकार ने इस साल अक्तूबर तक प्राकृतिक गैस की खरीद फरोख्त के लिये एक बड़ा एक्सचेंज (गैस विनिमय बाजार) शुरू करने की योजना बनाई है. इससे भारतीय गैस का एक मानक मूल्य तय हो सकेगा और इसकी खपत को बढ़ावा मिल सकेगा. तेल एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड (पीएनजीआरबी) ने इसके लिए एक सलाहकार की नियुक्ति के लिये बोलियां आमंत्रित की हैं जो भारतीय गैस विनिमय बाजार की स्थापना तथा उसकी नियामकीय रूपरेखा आदि के बारे में सलाह देगा.

निविदा में कहा गया है, ‘‘देश में प्राकृतिक गैस की खपत को बढ़ावा देने के लिये सरकार एक गैस कारोबार केन्द्र अथवा एक्सचेंज स्थापित करने पर विचार कर रही है. वर्तमान में प्राकृतिक गैस के कई तरह के फार्मुलों पर आधारित मूल्य के बजाय इस एक्सचेंज के जरिये प्राकृतिक गैस की आपूर्ति बाजार आधारित प्रणाली के तहत हो सकेगी.’’

वर्तमान में घरेलू स्तर पर उत्पादित गैस का मूल्य सरकार तय करती है. यह दर अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन और रूस में प्रचलित गैस के मूल्यों के आधार पर तय किये जाते हैं जो गैस के शुद्ध निर्यातक है. इसकी हर छठे माह समीक्षा की जाती है इस आधार पर गैस का दाम वर्तमान में 3.06 डालर प्रति इकाई (एमएमबीटीयू) है. यह दाम एक अप्रैल से शुरू होकर छह माह के लिये लागू है.

दूसरी तरफ देश में आयातित एलएनजी का दाम 7.5 डालर प्रति दस लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट पड़ता है. पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड ने कहा है कि पेट्रलियम मंत्रालय ने उससे कहा है कि वह देश में गैस खरीद-फरोख्त, एक्सचेंज की स्थापना और उसके संचालन के लिये जरूरी नियामकीय रूपरेखा तैयार करे.

नियामक ने कहा है कि वह इसके लिये सलाहकार फर्म को नियुक्त करना चाहती है जो कि इसके लिये विभिन्न जरूरतों के वास्ते विस्तृत अध्ययन करेगा. इसके लिये पीएनजीआरबी अमेरिका, ब्रिटेन और आस्ट्रेलिया का दौरा करेगा जहां इस प्रकार के गैस एक्सचेंज सफलता के साथ काम कर रहे हैं.

Multibagger Stocks: इस कंपनी के शेयरों ने 100 गुना बढ़ाई निवेशकों की पूंजी, ₹1 लाख को ₹1 करोड़ में बदला

Magellanic Cloud ने अपने निवेशकों की पूंजी को करीब 100 गुना बढ़ा दिया है. (फ़ोटो: न्यूज18)

करीब 8 साल पहले Magellanic Cloud के शेयरों का भाव सिर्फ 4 रुपये पर था, जो अब बढ़कर करीब 430 रुपये पर पहुंच गया है. इस त . अधिक पढ़ें

  • News18 हिंदी
  • Last Updated : December 10, 2022, 10:54 IST

हाइलाइट्स

पिछले करीब 8 सालों में Magellanic Cloud के शेयरों में 10000% से भी ज्यादा तेजी आई है.
Magellanic Cloud के शेयरों ने छोटी अवधि में भी निवेशकों को मल्टीबैगर रिटर्न दिया है.
Magellanic Cloud कंपनी आईटी सर्विस मैनेजमेंट का काम करती है.

नई दिल्ली. शेयर मार्केट में लिस्टेड आईटी सर्विस मैनेजमेंट कंपनी मैगलनिक क्लाउड लिमिटेड ने (Magellanic Cloud Ltd) अपने निवेशकों को शानदार रिटर्न दिया. कल यानी शुक्रवार 9 दिसंबर को कंपनी के शेयरों में 5 फीसदी का अपर सर्किट लगा और यह 429.95 रुपये के स्तर पर जाकर बंद हुआ. इससे पहले 8 दिसंबर को कंपनी के शेयरों में करीब 5 फीसदी का उछाल देखी गई थी.

पिछले करीब 8 सालों में इस कंपनी के शेयरों ने निवेशकों को कमाई कराने के मामले में बड़ी-बड़ी कंपनियों को भी पीछे छोड़ दिया है. इस दौरान इसके शेयरों की कीमत में 10 हजार फीसदी से भी अधिक उछाल आया है और इसके निवेशकों की संपत्ति करीब 100 गुना बढ़ी है.

करीब 8 साल में 100 गुना बढ़े शेयरों के भाव
बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर आज से करीब पौने 8 साल पहले 22 जनवरी 2015 को Magellanic Cloud के शेयरों का कारोबार शुरू हुआ था. उस समय इसके शेयरों का भाव सिर्फ 4 रुपये पर था, जो अब बढ़कर करीब 430 रुपये पर पहुंच गया है. इस तरह पिछले पौने 8 सालों में इसके शेयरों के भाव में 10,648.75 फीसदी की शानदार बढ़ोतरी हुई है.

दिया 1 लाख के बदले 1 करोड़ का रिटर्न
इस हिसाब से देखा जाए तो अगर किसी निवेशक ने Magellanic Cloud के शेयरों में 22 जनवरी 2015 को 1 लाख रुपये लगाकर उसे आज तक बनाकर रखा होता, तो उसके 1 लाख रुपये की वैल्यू बढ़कर आज 1 करोड़ 7 लाख रुपये होती.

इस साल दिया 760.76% का रिटर्न
सिर्फ पिछले पौने 8 सालों में नहीं, बल्कि Magellanic Cloud के शेयरों ने इस साल भी अपने निवेशकों को मल्टीबैगर रिटर्न दिया है। कंपनी के शेयरों में इस साल की शुरुआत से अबतक करीब 760.76% की तेजी आई है। मतलब कि अगर किसी निवेशक ने इस साल की शुरुआत में यानी 1 जनवरी 2022 को इस कंपनी के शेयरों में 1 लाख रुपये होता, तो आज उसके 1 लाख रुपये की वैल्यू बढ़कर 8.60 लाख रुपये होती.

छोटी अवधि में भी निवेशकों को किया मालामाल
लंबी अवधि के अलावा Magellanic Cloud के शेयरों ने छोटी अवधि में भी निवेशकों को मल्टीबैगर रिटर्न दिया है. इस साल की शुरुआत से अबतक कंपनी के शेयरों में करीब 760.76 फीसदी का उछाल आया है. इस हिसाब से अगर किसी निवेशक ने इस साल की शुरुआत में इसके शेयरों में 1 लाख रुपये लगाए होते तो आज उसकी वैल्यू बढ़कर 8.60 लाख रुपये हो गई होती.

क्या कारोबार करती है कंपनी?
डिजिटल स्पेस CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? में कारोबार करने वाली कंपनी Magellanic Cloud आईटी सर्विस मैनेजमेंट का काम करती है. यह मोबाइल और डेस्कटॉप के लिए सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस उपलब्ध करवाती है. साथ ही इस कंपनी ने क्लाउड, आईटी सेवाओं, सुरक्षा और ड्रोन सहित विभिन्न सेक्टरों की अग्रणी कंपनियों में बड़े पैमाने पर निवेश किया है. कंपनी ने भविष्य में अपनी कैपेसिटी को और बढ़ाने और ज्यादा सेवाएं देने के लिए कंपनियों का अधिग्रहण करने का टारगेट तय किया है.

कंपनी की वित्तीय स्थिति
चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में Magellanic Cloud का शुद्ध मुनाफा सालाना आधार पर 20.47 फीसदी बढ़कर 28.66 करोड़ रुपये रहा. वहीं, पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में यह 23.79 करोड़ रुपये रहा था. जबकि इस अवधि के दौरान कंपनी की टोटल सेल्स करीब 66.59 फीसदी बढ़कर 90.54 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. जो कि इसके पिछले वित्त वर्ष के इसी महीने में 54.35 करोड़ CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? रुपये थी.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

सेंसेक्स Sensex को हिंदी में क्या कहते हैं?

सेंसेक्स Sensex एक प्रकार का सूचकांक है, इसे आमतौर पर स्टॉक एक्सचेंज सेंसिटिव इंडेक्स के रूप में भी जाना जाता है, सेंसेक्स भारत का सबसे पुराना स्टॉक मार्केट इंडेक्स है. आपको बता दें कि इसकी शुरुआत 1986 में हुई थी हम बात करें इसके काम की तो सेंसेक्स Sensex मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के शेयर्स के भाव में होने वाले तेजी मंदी को बताती है. सेंसेक्स Sensex के अंदर लगभग 30 कंपनी आती हैं. सेंसेक्स Sensex के अंदर काम करने वाली कंपनियों के शेयर में उतार-चढ़ाव पर नजर रखती है यह आज के समय में इंडियन जीडीपी का कुल 36% है.

सेंसेक्स Sensex की परिभाषा हिंदी में

आपको बता दें कि SensEx भारत देश के बहुत ही खूबसूरत शहर मुंबई में स्थित शेयर बाजार S&P BSE का सूचकांक है। बीएससी BSE का फुल फॉर्म मुंबई स्टॉक एक्सचेंज है जबकि SensEx Sensitive IndEx से मिलकर बना है, आपको बता दें कि SensEx Sensitive IndEx का अर्थ संवेदी सूचकांक सेंसेक्स होता है जैसे कि हम सभी जानते हैं आज के समय में मुंबई शेयर बाजार में रजिस्टर और मार्केट कैप के हिसाब सबसे 30 बड़ी कंपनियों का ही इंडेक्स किया जाता है.

अगर हम और सरल शब्दों में कहें तो SensEx के घटने बढ़ने से यह पता चलता है कि देश की बड़ी कंपनियों को profit हो रहा है या loss हो रहा है. SensEx की शुरुआत 1 जनवरी 1986 में हुई थी इसमें से 30 कंपनियां इसमें शामिल की गई हैं और यह कंपनियां समय के साथ बदलती रहती हैं इस कंपनी को चुनने के लिए एक कमेटी बनाई गई है इस कंपनियों को लेकर आने के कारण इसे मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के नाम से भी जाना जाता है.

किसी भी सूचीबद्ध कंपनी listed company को सूचकांक index में शामिल करने के लिए, उसे ‘बीएसई’ के 100 मार्केट कैप वाली कंपनियों में से एक होना चाहिए, और इसकी कुल मार्केट कैप बीएसई के कुल मार्केट कैप के 0.5% से अधिक होनी चाहिए। किसी भी सूचीबद्ध कंपनी को सूचकांक में शामिल करने के लिए ‘बीएसई’ BSE’ के 100 मार्केट कैप वाली कंपनियों में से एक होना चाहिए, और इसकी कुल मार्केट कैप बीएसई BSE’ के कुल बाजार के 0.5% से अधिक होनी चाहिए,

भारत में मुख्य रूप से दो एक्सचेंज हैं पहला बीएसई ( बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) (Bombay Stock Exchange) और एक अन्य ‘एनएसई’ (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) ‘NSE’ (National Stock Exchange) को बीएसई के लिए ‘सेंसेक्स’ और एनएसई के लिए ‘निफ्टी’ के रूप में जाना जाता है। ”Sensex का आधार वर्ष 1 अप्रैल 1979 माना जाता है। इसकी गणना 100 के रूप में की जाती है, इसकी गणना फ्री फ्लोट बाजार पूंजीकरण पद्धति के आधार पर की जाती है। इस पद्धति के लिए, सबसे सक्रिय 30 कंपनियों को BSE से लिया CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? जाता है, और उसके बाद इन कंपनियों के ‘फ्री फ्लोट मार्केट कैप’ की गणना की जाती है।

सेंसेक्स की गणना कैसे की जाती है? How is Sensex Calculated?

जैसा कि आप जानते ही होंगे कि गणना calculation के लिए आधार वर्ष 1978-1979 तक चुना गया है। उस समय सेंसेक्स का बेस प्राइस सिर्फ 100 रुपए रखा गया था। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की गणना calculation पहली बार वर्ष 1986 में की गई थी और 1 सितंबर 2003 से सेंसेक्स की गणना calculation फ्री फ्लोट विधि द्वारा की जा रही है।

फ्री फ्लोट मेथड (FFM) में कंपनी के जो भी शेयर मौजूद होते हैं, उन्हें हमेशा पब्लिक ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध रखा जाता है, और इनमें से सरकार का हिस्सा निकाल लिया जाता है, और जो बचा रहता है, उसे बाजार में रख दिया जाता है। सार्वजनिक व्यापार के माध्यम से। के लिए उपलब्ध कराया गया है। इसे नीचे दिए गए उदाहरण से समझें।

उदाहरण- मान लीजिए कोई कंपनी A है, कंपनी के पास कुल शेयरों shares की संख्या 1000 है, जिसमें से 300 शेयर प्रमोटरों के पास हैं और 700 शेयर जनता के पास हैं। तो ये 700 शेयर जो जनता के पास हैं उन्हें फ्री फ्लोट शेयर float shares कहा जाएगा।

सेंसेक्स मुख्य रूप से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का प्रतिनिधित्व करने वाला एक सूचकांक है जिसे 1875 में स्थापित किया गया था। स्टॉक एक्सचेंज का 1 जनवरी 1986 तक कोई आधिकारिक सूचकांक नहीं था। यह वह समय था जब भारतीय बाजार के प्रदर्शन को मापने के लिए सेंसेक्स को चुना गया था। सेंसेक्स में 30 प्रमुख स्टॉक शामिल हैं जो सेक्टरों से प्राप्त होते हैं और एक्सचेंज मार्केट में सक्रिय रूप से कारोबार करते हैं। सेंसेक्स वास्तव में भारतीय शेयर बाजार की चाल को दर्शाता है। यदि सेंसेक्स का मूल्य बढ़ता है, तो इसका मतलब है कि शेयरों की कीमतों में सामान्य वृद्धि हुई है। वहीं, अगर सेंसेक्स में गिरावट आती है तो इसका मतलब है कि शेयरों की कीमत में सामान्य गिरावट है।

आप एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स के माध्यम से शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव की पहचान कर सकते हैं। 19 फरवरी, 2013 से, BSE और S&P डॉव जोन्स इंडेक्स सेंसेक्स की गणना के लिए गठबंधन करते हैं। निफ्टी भारत में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के लिए गणना की जाने वाली दूसरी इंडेक्स है।

सेंसेक्स में बीएसई पर 30 सबसे बड़े और सबसे सक्रिय रूप से कारोबार करने वाले स्टॉक शामिल हैं। जो भारत की अर्थव्यवस्था का एक गेज प्रदान करता है। सेंसेक्स भारत के सबसे पुराने स्टॉक इंडेक्स में से एक है, सेंसेक्स का उपयोग निवेशकों द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था के समग्र विकास, विकास, उतार-चढ़ाव के विकास के लिए किया जाता है।

सेंसेक्स सेंसिटिव इंडेक्स यानी सेंसिटिव इंडेक्स का संक्षिप्त नाम है। मुंबई स्टॉक एक्सचेंज का संवेदनशील सूचकांक जिसे संक्षेप में बीएसई 30 या बीएसई सेंसेक्स के रूप CTA का कारोबार किस एक्सचेंज पर होता है? में भी जाना जाता है। वहां के शीर्ष 30 शेयरों के आधार पर। सेंसेक्स की तरह निफ्टी भी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स है और वहां के पचास शेयरों पर आधारित है।

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 647