दक्षिण पूर्व क्षेत्र

कर्नाटक या दिल्ली नहीं. इस राज्य में खुले सबसे ज्यादा स्टार्ट-अप, ये है Top-5 की लिस्ट

Share Capital: Meaning, Types अप कैपिटल क्या हैं अप कैपिटल क्या हैं and Classes | Company

After reading this article you will learn about:- 1. Meaning of Share Capital 2. Types/Nature of Share Capital 3. Classes.

The term capital usually means a particular amount of money with which a business is started. In Indian Companies Act, it has been used in different senses in various parts of the Act, but in general it means the money subscribed pursuant to Memorandum of Association of the Company. Capital, in fact, represents the assets with which the undertaking is carried on.

The sum total of अप कैपिटल क्या हैं nominal value of shares of a company is known as its share capital. In case of companies, the terms ‘capital’ and ‘share capital’ have been held to be synonymous. Capital to be stated in the Memorandum of Association and Articles of Association of the Company.

Types/Nature of Share Capital:

The share capital of company may be of the following types:

1. Registered, Authorised or Nominal Capital:

The Memorandum of Association अप कैपिटल क्या हैं of every company has to specify the amount of capital with which it wants to be registered. The capital so stated is called Registered, Authorized or Nominal Capital. The Registered Capital is the maximum amount of share capital which a company can raise by way of public subscription.

2. Issued Capital:

The company may not issue the entire authorised capital at once. It goes on raising the capital as and when the need for additional fund is felt. So, issued capital is that part of Authorised/Registered or Nominal Capital which is offered to the public for subscription in the form of shares.

Classes of Share Capital:

The share capital of a company limited by shares may be of the following two kinds:

1. Preference share capital, and

2. Equity share capital.

1. Preference Share Capital:

It means that part of the capital of the company which:

(a) Carries a preferential right as to payment of dividend at fixed rate during the life time of the company.

(b) Carries, on the winding up of the company, a preferential right to be repaid the amount of the capital paid up.

2. Equity Share Capital:

It means with reference to a company, limited by shares, all share capital which is not preference share capital.

अप कैपिटल क्या हैं

  • शिकायत सेल
  • कारपोरेट कार्य मंत्री
  • कारपोरेट कार्य राज्य मंत्री
  • मुख्यालय के अधिकारियों की सूची
  • DGCOA अधिकारि
  • प्रादेशिक निदेशक
  • कंपनी रजिस्ट्रार
  • शासकीय समापक
  • लागत लेखापरीक्षा शाखा (सीएबी)
  • नोडल अधिकारी
  • अनु. जाति/अनु. जनजाति/ अ.वि.वर्ग के लिए संपर्क अधिकारी
  • वेब सूचना प्रबंधक

कंपनी अधिनियम की धारा 609 के तहत नियुक्त कंपनी रजिस्ट्रार (आरओसी) जो विभिन्न राज्यों एवं संघ शासित क्षेत्रों में पदस्थ हैं को संबंधित राज्यों एवं संघ शासित क्षेत्रों में स्थित कंपनियों/एलएलपी के पंजीकरण तथा ऐसी कंपनियों/एलएलपी द्वारा अधिनियम के तहत सांविधिक अपेक्षाओं की अनुपालन सुनिश्चित करने का महत्वपूर्ण कार्य सौंपा गया है। ये कार्यालय उनके पास पंजीकृत कंपनियों से संबंधित रिकार्ड की रजिस्ट्री के रूप में कार्य करते हैं, ये रिकार्ड आम जनता को निर्धारित शुल्क अदा करने पर निरीक्षण के लिए उपलब्ध कराए जाते हैं। केन्द्र सरकार इन कार्यालयों पर संबद्ध प्रादेशिक निदेशकों के माध्यम से प्रशासनिक नियंत्रण का प्रयोग करती है।.

कार्यशील पूंजी के विभिन्न प्रकार क्या हैं

कार्यशील पूंजी बिज़नेस ऑपरेशन को आसानी से चलाने में मदद करती है. विभिन्न प्रकार की कार्यशील पूंजी में निम्नलिखित शामिल हैं.

1. स्थायी कार्यशील पूंजी

किसी व्यवसाय के लिए आवश्यक न्यूनतम कार्यशील पूंजी को स्थायी, निश्चित या हार्डकोर कार्यशील पूंजी कहा जाता है. आसान ऑपरेशन के लिए उपलब्ध राशि इस आबंटित थ्रेशोल्ड से कम नहीं होनी चाहिए.

2. सकल और निवल कार्यशील पूंजी

वर्तमान एसेट के लिए अप कैपिटल क्या हैं आबंटित बिज़नेस इन्वेस्टमेंट में सकल कार्यशील पूंजी राशि. बिज़नेस के ऑपरेटिंग साइकल में इन एसेट को कैश में बदलना आसान है. बिज़नेस की नेट वर्किंग कैपिटल सकल कार्यशील पूंजी और वर्तमान देनदारियों के बीच अंतर है.

3. अस्थायी कार्यशील पूंजी

अस्थायी या परिवर्तनीय कार्यशील पूंजी नेटवर्किंग और स्थायी कार्यशील पूंजी के बीच अंतर है, जो समग्र बिक्री और उत्पादन से संबंधित है. इसे उतार-चढ़ाव कार्यशील पूंजी भी कहा जाता है क्योंकि यह बिज़नेस ऑपरेशन और मार्केट के अनुसार बदलता है.

व्यवसाय में पूंजी का क्या मतलब है

बिज़नेस में पूंजी का अर्थ है, प्रॉडक्ट या सेवाओं के उत्पादन के लिए आवश्यक फाइनेंशियल एसेट. इन फंड का उपयोग ऑपरेशन शुरू करने, दैनिक खर्चों को पूरा करने या बिज़नेस को बढ़ाने और बढ़ाने के लिए किया जा सकता है.

बिज़नेस कैपिटल में तीन ब्रॉड कैटेगरी हैं:

  1. सीड कैपिटल
    सीड फंडिंग के रूप में भी जाना जाता है, यह बिज़नेस स्थापित करने के लिए आवश्यक प्रारंभिक निवेश है. हर दिन के खर्चों में परिसर खरीदना या लीज करना (ऑफिस, फैक्टरी, वेयरहाउस आदि), आवश्यक उपकरण खरीदना और अन्य बुनियादी ढांचे की स्थापना शामिल है.
  2. अप कैपिटल क्या हैं
  3. कार्यशील पूंजी
    कार्यशील पूंजी किसी बिज़नेस के दैनिक कार्य को पूरा करने के लिए आवश्यक फंड को संदर्भित करता है. रोजमर्रा के खर्चों में किराया, यूटिलिटी बिल, कर्मचारी वेतन, कच्चे माल या इन्वेंटरी खरीदना, प्रशासन आदि शामिल हैं.
  4. ग्रोथ कैपिटल
    बिज़नेस द्वारा अपने ऑपरेशन को बढ़ाने के लिए आवश्यक फंड को ग्रोथ कैपिटल या एक्सपेंशन कैपिटल कहा जाता है. इन फंड का उपयोग बिज़नेस ऑपरेशन के विस्तार या विस्तार के दौरान सस्टेनेंस के लिए किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें

100 साल पुराना इतिहास, ‘मुर्गा’ ने ऐसे बनाया शिवकाशी को ‘पटाखा कैपिटल’

100 साल पुराना इतिहास, ‘मुर्गा’ ने ऐसे बनाया शिवकाशी को ‘पटाखा कैपिटल’

जमीन से आसमां का सफर, वो 5 आम लोग जिन्होंने गाड़े सफलता के झंडे, खुद लिखी किस्मत

जमीन से आसमां का सफर, वो 5 आम लोग जिन्होंने गाड़े सफलता के झंडे, खुद लिखी किस्मत

इन 5 आधुनिक तकनीकों को अपना कर किसान हो रहे मालामाल, आप भी उठाएं फायदा

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 424