क्रिप्टो माइनिंग कैसे करते हैं?

Hello, My name is Shivesh Pratap. I am an Author, IIM Calcutta Alumnus, Management Consultant & Literature Enthusiast. The aim of my website ShiveshPratap.com is to spread the positivity among people by the good ideas, motivational thoughts, Sanskrit shlokas. Hope you love to visit this website!

20 thoughts on “ Bitcoin माइनिंग क्या होता है? | What is Bitcoin Mining Explained in Hindi ”

Kya mobile phone ke sahare bitcoin buy kar rakh skte hai

हाँ कर सकते हैं | mobile में इन्टरनेट हो तो आप अपना अकाउंट बनाकर बिट क्वाइन कमा सकते हैं | इसे खरीदा नहीं जाता है | जैसे आप रूपया कमा सकते हैं पर खरीद नहीं सकते उसी तरह यह बिट क्वाइन भी एक मुद्रा है |

Main bitcoin kaise earn kar sakta hu.
Mujhe bhi mining learn karna hai.

Bitcoin kese kamaye hate he

Bitcoin kamana he to mera number 8287406163

Bit coin ke bare me puri jankari jo de sakta ho please call me 7398361050

For help about bitcoin and invest in Bitcoin get your money double profit 100% sure for more call me 9896714894 and what’s up 7876223232

You are doing good work .I want to know about Bitcoin. How I earn Bitcoin.

Sorryy sir mujhe ye bitcoin ka real mins explain kro

Sir Please describe what is ICO?

Plz sir bitcoin aasani se kese kamaya ja skta iske bare me bataiyen

bitcoin minie kaise kar sakte hai

Mining krne ke liya kis sector ka knowledge hona chahiye

BHAI PHONE NUMBER SEND KRO PLZZ APSE BAAT KRNI HE

Bfx coin ke liye mile
Ye bfm pictures ki he
Ek kati hai.

Sir iske liye mob banking jaruri h ya क्रिप्टो माइनिंग कैसे करते हैं? nahi

Can u explain bit Coin 7007483380 cal me

Kya ab etheric kimining ka koi befit Hai

Sir me bitcoin pe account kaise bana saketa hu.aur bitcoin kaise kama seketa hu.

Leave a Reply

Join our YouTube!

वेबसाइट ने अपना YouTube चैनल शुरू किया है। तो जल्दी से यू-ट्यूब चैनल सब्सक्राइब करिये और बेल आइकन (घंटी) भी अवश्य दबाएं। इससे आपको मेरे यू-ट्यूब चैनल पर अपलोड होने वाली कोई भी वीडियो का नोटिफिकेशन आप को तुरंत मिलेगा… Click here to Join My YouTube

Cryptocurrency History: सोने से ज्यादा 'सोणी' क्यों क्रिप्टोकरेंसी, कहां से आई और कैसे छाई, जानें सब कुछ

वर्ष 1990 और 2000 से पहले कई डिजिटल फाइनेंस माध्यम भी सामने आए, जिनमें पेपल (PayPal) आदि शामिल थे। गौर करने वाली बात यह है कि पेपल की शुरुआत टेस्ला के संस्थापक एलन मस्क ने की थी। उन्होंने ही उस वक्त पहली बार वर्चुअल करेंसी की वकालत भी की थी और 10 साल बाद क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में आए उछाल ने उनकी बात साबित भी की।

कैसे अस्तित्व में आई क्रिप्टोकरेंसी?

बात करेंसी की हो और क्रिप्टो का जिक्र न हो, ऐसा होना नामुमकिन है। क्रिप्टोकरेंसी को लेकर बाजार में तो इतने बड़े-बड़े दावे होने लगे हैं कि इसे सोने से भी सोणा कहा जाने लगा है। हालांकि, इन सबसे पहले एक सवाल उठता है कि आखिर क्या है ये क्रिप्टोकरेंसी? कैसे इसे खरीद और बेच सकते हैं? कैसे इनकी माइनिंग होती है और इनकी कीमत लगातार कैसे बढ़ रही है? वैसे ये सवाल काफी पुराने हो सकते हैं, लेकिन अमर उजाला एक खास सीरीज 'कहानी क्रिप्टो की' शुरू कर रहा है। इसकी पहली कड़ी में क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत से उसके क्वाइन बनने तक की कहानी बताई जा रही है। सीरीज की अगली कड़ियों में क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग होने और उनकी कीमतों के आसमान छूने तक के हर किस्से से आपको रूबरू कराया जाएगा।

क्रिप्टोकरेंसी आजकल काफी चर्चा में है, लेकिन यह सुर्खियों में उस वक्त ज्यादा आई थी, जब जुलाई 2010 के दौरान बिटक्वाइन नाम की क्रिप्टोकरेंसी अस्तित्व में आई और उससे लेन-देन भी होने लगा। उस वक्त बिटकॉइन की कीमत 0.0008 डॉलर थी, जो वर्तमान में 58 हजार डॉलर के आंकड़े को पार कर चुकी है। बिटक्वाइन भले ही आज के जमाने की काफी प्रचलित है, लेकिन क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत 1980 से भी पहले हो गई थी।

जानकारी के मुताबिक, 1980 के दौर में अमेरिकन क्रिप्टोग्राफर डेविट चौम ने 'ब्लाइंडिंग' नाम की एल्गोरिदम का अविष्कार किया था, जो सेंट्रल से मॉडर्न वेब-बेस्ड इनक्रिप्शन पर आधारित थी। यह एल्गोरिदम सिक्योर, पार्टियों के बीच अपरिवर्तनीय सूचना के आदान-प्रदान और भविष्य के इलेक्ट्रॉनिक करेंसी ट्रांसफर के लिए आधार तैयार करने के मकसद से बनाई गई थी। हालांकि, इस पर कुछ काम नहीं हुआ।

ब्लाइंडिंग के चर्चा में आने के 15 साल बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर वेई दई ने बी-मनी नाम की वर्चुअल करेंसी को लेकर व्हाइट पेपर तैयार किया। बी-मनी में मॉडर्न क्रिप्टोकरेंसी के कई बेसिक कंपोनेंट्स थे। व्हाइट पेपर में बी-मनी के जटिल प्रोटेक्शन और डिसेंट्रलाइजेशन का जिक्र किया गया था। हालांकि, बी-मनी कभी एक्सचेंज के रूप में बाजार में नहीं आ पाई।

वर्ष 1990 और 2000 से पहले कई डिजिटल फाइनेंस माध्यम भी सामने आए, जिनमें पेपल (PayPal) आदि शामिल थे। गौर करने वाली बात यह है कि पेपल की शुरुआत टेस्ला के संस्थापक एलन मस्क ने की थी। उन्होंने ही उस वक्त पहली बार वर्चुअल करेंसी की वकालत भी की थी और 10 साल बाद क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में आए उछाल ने उनकी बात साबित भी की। हालांकि, यह भी सच है कि साल 2000 के बाद जब बिटक्वाइन अस्तित्व में आया, उसके बाद ही सभी तरह की क्रिप्टोकरेंसी में तेजी दर्ज की गई।

नोट: 'कहानी क्रिप्टो की' सीरीज में आज क्रिप्टोकरेंसी के जन्म की दास्तां बताई गई। कल हम आपको बिटक्वाइन की शुरुआत होने और इसके शिखर पर चढ़ने के किस्से से रूबरू कराएंगे।

विस्तार

बात करेंसी की हो और क्रिप्टो का जिक्र न हो, ऐसा होना नामुमकिन है। क्रिप्टोकरेंसी को लेकर बाजार में तो इतने बड़े-बड़े दावे होने लगे हैं क्रिप्टो माइनिंग कैसे करते हैं? कि इसे सोने से भी सोणा कहा जाने लगा है। हालांकि, इन सबसे पहले एक सवाल उठता है कि आखिर क्या है ये क्रिप्टोकरेंसी? कैसे इसे खरीद और बेच सकते हैं? कैसे इनकी माइनिंग होती है और इनकी कीमत लगातार कैसे बढ़ रही है? वैसे ये सवाल काफी पुराने हो सकते हैं, लेकिन अमर उजाला एक खास सीरीज 'कहानी क्रिप्टो की' शुरू कर रहा है। इसकी पहली कड़ी में क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत से उसके क्वाइन बनने तक की कहानी बताई जा रही है। सीरीज की अगली कड़ियों में क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग होने और उनकी कीमतों के आसमान छूने तक के हर किस्से से आपको रूबरू कराया जाएगा।

कब अस्तित्व में आई क्रिप्टोकरेंसी?

क्रिप्टोकरेंसी आजकल काफी चर्चा में है, लेकिन यह सुर्खियों में उस वक्त ज्यादा आई थी, जब जुलाई 2010 के दौरान बिटक्वाइन नाम की क्रिप्टोकरेंसी अस्तित्व में आई और उससे लेन-देन भी होने लगा। उस वक्त बिटकॉइन की कीमत 0.0008 डॉलर थी, जो वर्तमान में 58 हजार डॉलर के आंकड़े को पार कर चुकी है। बिटक्वाइन भले ही आज के जमाने की काफी प्रचलित है, लेकिन क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत 1980 से भी पहले हो गई थी।

सबसे पहले बनी थी ब्लाइंडिंग एल्गोरिदम

जानकारी के मुताबिक, 1980 के दौर में अमेरिकन क्रिप्टोग्राफर डेविट चौम ने 'ब्लाइंडिंग' नाम की एल्गोरिदम का अविष्कार किया था, जो सेंट्रल से मॉडर्न वेब-बेस्ड इनक्रिप्शन पर आधारित थी। यह एल्गोरिदम सिक्योर, पार्टियों के बीच अपरिवर्तनीय सूचना के आदान-प्रदान और भविष्य के इलेक्ट्रॉनिक करेंसी ट्रांसफर के लिए आधार तैयार करने के मकसद से बनाई गई थी। हालांकि, इस पर कुछ काम नहीं हुआ।

बी-मनी थी पहली वर्चुअल करेंसी

ब्लाइंडिंग के चर्चा में आने के 15 साल बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर वेई दई ने बी-मनी नाम की वर्चुअल करेंसी को लेकर व्हाइट पेपर तैयार किया। बी-मनी में मॉडर्न क्रिप्टोकरेंसी के कई बेसिक कंपोनेंट्स थे। व्हाइट पेपर में बी-मनी के जटिल प्रोटेक्शन और डिसेंट्रलाइजेशन का जिक्र किया गया था। हालांकि, बी-मनी कभी एक्सचेंज के रूप में बाजार में नहीं आ पाई।

सबसे पहले एलन मस्क ने की थी वर्चुअल करेंसी की वकालत

वर्ष 1990 और 2000 से पहले कई डिजिटल फाइनेंस माध्यम भी सामने आए, जिनमें पेपल (PayPal) आदि शामिल थे। गौर करने वाली बात यह है कि पेपल की शुरुआत टेस्ला के संस्थापक एलन मस्क ने की थी। उन्होंने ही उस वक्त पहली बार वर्चुअल करेंसी की वकालत भी की थी और 10 साल बाद क्रिप्टोकरेंसी की कीमतों में आए उछाल ने उनकी बात साबित भी की। हालांकि, यह भी सच है कि साल 2000 के बाद जब बिटक्वाइन अस्तित्व में आया, उसके बाद ही सभी तरह की क्रिप्टोकरेंसी में तेजी दर्ज की गई।

नोट: 'कहानी क्रिप्टो की' सीरीज में आज क्रिप्टोकरेंसी के जन्म की दास्तां बताई गई। कल हम आपको बिटक्वाइन की शुरुआत होने और इसके शिखर पर चढ़ने के किस्से से रूबरू कराएंगे।

Cryptocurrency: क्रिप्टो करेंसी से हर माह कमा रहे 26 लाख रुपये, कैसे करें कमाई ?

यह पैसा बनाने वाली चीज नहीं, बल्कि सीखने का अनुभव था. उन्होंने अपने इस अनुभव को पूरे व्यवसाय का पसंदीदा हिस्सा बताया. ईशान याद करते हुए कहते हैं कि शुरुआत में हम कोई पैसा नहीं कमा रहे थे. हमने केवल तीन डॉलर प्रतिदिन कमाये. लेकिन, इससे वे निराश नहीं हुए.

cryptocurrency news

सिर्फ सात महीने पहले, दो भारतीय अमेरिकी बच्चों ने शौक के तौर पर क्रिप्टोकरेंसी में निवेश शुरू किया, और आज उसकी कमाई से उन्होंने एक बेहतर कॉलेज में उच्च शिक्षा पाने का लक्ष्य तय कर लिया है. 14 साल का इशान और नौ साल की आन्या कुछ दिन पहले तक हर दिन मात्र तीन डॉलर कमा रहे थे. एक अंग्रेजी न्यूज चैनल के साथ बात करते हुए इशान ने बताया कि सिर्फ तीन डॉलर कमाने पर भी उन्हें खुद पर गर्व महसूस होता था.

उन्हें पता था कि यह पैसा बनाने वाली चीज नहीं, बल्कि सीखने का अनुभव था. उन्होंने अपने इस अनुभव को पूरे व्यवसाय का पसंदीदा हिस्सा बताया. ईशान याद करते हुए कहते हैं कि शुरुआत में हम कोई पैसा नहीं कमा रहे थे. हमने केवल तीन डॉलर प्रतिदिन कमाये. लेकिन, इससे वे निराश नहीं हुए.

 क्रिप्टो करेंसी को लेकर सरकार ले सकती है फैसला, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री ने दिये संकेत

क्रिप्टो करेंसी को लेकर सरकार ले सकती है फैसला, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री ने दिये संकेत

उन्होंने अपने गेमिंग कंप्यूटर को क्रिप्टोमाइनिंग कंप्यूटर में बदल दिया. धीरे-धीरे इशान और आन्या इसमें दिमाग लगाने लगे. जैसे-जैसे उन दोनों ने अपना दिमाग लगाया, उनका अनुभव बेहतर होता गया. उन्होंने बताया कि आज वे 35 हजार डॉलर प्रति माह कमा रहे हैं. दोनों भाई-बहनों ने बताया कि उन्हें वास्तव में इसपर गर्व है.

सात महीने पहले बिटकॉइन व क्रिप्टोकरेंसी के बारे सुना

ईशान ने बताया कि फरवरी में उन दोनों ने बिटकॉइन और क्रिप्टो माइनिंग कैसे करते हैं? क्रिप्टोकरेंसी के तेजी से बढ़ने के बारे में सुना. इशान वास्तव में कुछ निवेश करना चाहते थे. लेकिन, उनके पास इसमें निवेश के लिए पर्याप्त पैसा नहीं था. इसलिए, उन्होंने निवेश करने की बजाय सिर्फ क्रिप्टो उपकरण खरीदने और उसी से कमाने का फैसला किया. और अब (इतनी दूर आने के बाद) अपने निर्णय से वह बेहद संतुष्ट हैं.

भाई की मदद करने उसके साथ आयी : आन्या

नौ साल की आन्या ने बताया कि जब उन्होंने बिटकॉइन और क्रिप्टोकरेंसी के बारे में सुना, तो उन्हें वास्तव में इसके प्रति दिलचस्पी जगी. लेकिन, इतनी भी नहीं कि उसमें निवेश कर डालें. आन्या ने बताया कि वह इसमें अपने भाई की मदद करने और क्रिप्टो उपकरण खरीदने में मदद करने के लिए आयी थीं. बाद में आन्या ने भी अपना विचार बदल लिया.

यू-ट्यूब ट्यूटोरियल देख सीखा क्रिप्टो माइनिंग

भारत को क्रिप्टो कंपनी एथेरम के संस्थापक ने कोरोना से जंग के लिए दिया एक बिलियन डॉलर का दान

भारत को क्रिप्टो कंपनी एथेरम के संस्थापक ने कोरोना से जंग के लिए दिया एक बिलियन डॉलर का दान

ईशान कहते हैं कि वास्तव में यदि आप क्रिप्टो माइनिंग के बारे में सीखना चाहते हैं, तो बहुत सारे यू-ट्यूब ट्यूटोरियल देखें, बस कुछ लेख पढ़ें. उन्होंने बताया कि दोनों भाई-बहन ने भी क्रिप्टो माइनिंग की शुरुआत यू-ट्यूब ट्यूटोरियल देखकर ही की. आपको एक ग्राफिक्स कार्ड के साथ-साथ एक ऐसा सॉफ्टवेयर चाहिए जिनके नंबर मुश्किल लगते हैं.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Best App for Cryptocurrency Free Mining in Hindi – स्मार्टफोन से फ्री क्रिप्टोकरंसी माइनिंग करे और कमाए पैसा ?

नमस्कार दोस्तों, जैसा की आप सभी को मालूम है क्रिप्टोकरंसी यानि डिजिटल करंसी में लोगों की रूचि दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, यह कारण है कि लोग अब क्रिप्टो माइनिंग और आकर्षित हो रहे, और अब ज्यादा से ज्यादा लोग क्रिप्टो माइनिंग करना चाहते है, आसान भाषा में समझे तो लोग फ्री में क्रिप्टो करेंसी लेना चाहते है। पहले क्रिप्टोकरंसी माइनिंग करने में काफी इलेक्ट्रिसिटी लगती थी, लेकिन आज ऐसा नहीं है, अब केवल आपके स्मार्टफोन से क्रिप्टो माइनिंग की जा सकती है, लेकिन वह कौन से एप्लीकेशन है ? इसकी जानकारी आज हम आपको देने वाले है, जिसे जानने के लिए हमारे साथ बने रहे।

Best App for Cryptocurrency Free Mining in Hindi, Hi Dollars, Pi Network, BeeNetwork, GeoCash All Details with Invite Code | स्मार्टफोन से फ्री क्रिप्टोकरंसी माइनिंग कैसे करे ?

Best Application for Cryptocurrency Free Mining in Hindi

आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि इन क्रिप्टो करेंसी माइनिंग मोबाइल एप्लीकेशन से आपके डाटा और बैटरी बैकअप की खपत काफी अधिक होने वाली है, तो हम आपको बता दे ऐसा बिल्कुल नहीं है, क्योंकि अब जो भी क्रिप्टो करेंसी माइनिंग मोबाइल एप्लीकेशन बनाए जाते है, वह ज्यादातर क्लाउड माइनिंग पर आधारित होते हैं, और वही कुछ एप्लीकेशन बहुत कम बैटरी और डेटा का इस्तेमाल करते हैं। इस लिए आपको इस बात की चिंता करने की आवयश्कता नहीं है।

Hi Dollars

इस क्रिप्टोकरंसी माइनिंग एप्लीकेशन को कुछ ही समय पहले लांच किया गया है, जिसे अब तक 1,00,000 से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं। क्रिप्टो को टेलीग्राम या वॉट्सऐप के जरिए भी विदड्रॉ कर सकते है। निचे एप्लीकेशन कल लिंक और रेफरल कोड दिया गया है।

Pi Network

जब फ्री क्रिप्टोकरंसी माइनिंग के बात आती है, तो सबसे पहले नाम Pi का ही आता है, यह एक प्रसिद्ध क्रिप्टोकरंसी माइनिंग एप्लीकेशन है, जो तकरीबन 3 साल से काम कर रहा है। अगर आप इस लोकप्रियता के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप गूगल पर जा कर देख सकते है, इसे केवल भारत में ही नहीं बल्कि हर एक देश में इस्तेमाल किया जाता है।

GeoCash

आपको बता दे की GeoCash के पास खुद की एक क्रिप्टोकरंसी है, इससे आप क्रिप्टोकरेंसी GeoDB Coin को हासिल कर सकते हैं, इसमें आपको डेली रिवॉर्ड मिलते है और अगर आप अपने दोस्तों को इनवाइट करते है, तो आपको खत्री कलामाता।

Phoneum (PHT) Crypto Mining

यह एक क्लाउड माइनिंग एप्लीकेशन, इनका खुद का एक कॉइन है, जिसकी वैल्यू अभी काफी कम है, लेकिन आने वाले दिनों या सालो में इससे आपको काफी अच्छा प्रॉफिट हो सकता है। सबसे अच्छी बात यह की तरह से फ्री है। इस क्लाउड माइनिंग एप्लीकेशन के कुल चार 4 एप्लीकेशन है, जिसकी सहायता से आप तेज़ी सेPhoneum (PHT) टोकन कमा सकते है। जिसमे Cloude Earning pht, Crypto Cards, Green Karma, Crypto Planet इन सभी लिंक निचे दिए गए है।

Cloude Earning pht

Crypto Cards

Green Karma

Crypto Planet

Tri Coin

आपको बता दे की यह एक भारतीय क्रिप्टोकरंसी माइनिंग एप्लीकेशन है, जिसे एक भारतीय यूजर ने बनाया है। 1 साल से यह काफी अच्छे से काम कर रहा है और आने वाले कुछ सालों में किसी एक्सचेंज पर लिस्ट भी हो सकता हाउ।

BeeNetwork

अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है, तो आप इस जानकारी को अपने उन दोस्तों और परिजनों के साथ शेयर करते हैं, जो क्रिप्टो करेंसी और क्रिप्टोकरंसी माइनिंग एप्लीकेशन में अपनी रूचि रखते है। इसी तरह की जानकारी जानने के लिए हमारे साथ बने रहे।

#like4like #redhair #candyhair #emo #scene क्रिप्टो माइनिंग कैसे करते हैं? #gothic #scenehair #inkedgirls .

#like4like #redhair #candyhair #emo #scene #gothic #scenehair #inkedgirls .

#like4like #redhair #candyhair #emo #scene #gothic #scenehair #inkedgirls #छेदगर्दी #selfie #nofilter #manicpanic #htfandom #torrid #torridfashion #torridmodel #feelthefit #bodycandy #bodycandyjewelry #tattooedjasmines #onlyfans #emohair #keto

रेटिंग: 4.78
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 492