कंपनी के बारे में जानें
निवेश की योजना बनाने से पहले ही निवेशकों को कंपनी के बारे में डिटेल से जानकारी कर लेनी चाहिए। साथ ही कंपनी का बिजनेस समझकर ही निवेश की प्‍लानिंग करनी चाहिए। एक निवेशक को कंपनी की आर्थिक स्थिति, सेक्‍टर में स्थि‍ति, ग्रोथ आदि के बारे में जानकारी करना भी जरूरी है। वहीं बिना समझकर निवेश करना एक खतरा हो सकता है। साथ ही किसी के जानकारी के अभाव में दिए गए सलाह पर भी यकीन करके निवेश नहीं किया जाना चाहिए।

निवेश करते समय अफवाहों से कैसे निपटें?

आप कितनी बार ऐसे परिचित लोगों से मिलते हैं जिन्होंने शेयर बाजार में अपना पैसा गंवा दिया होता है क्योंकि उन्हें पता नहीं होता कि बाजार में अगले पल क्या होगा या फिर जिन्होंने पैसा कमाया क्योंकि उन्हें पता था कि बाजार कहाँ जा रहा था? यहाँ तक कि बेहतरीन मार्केट विश्लेषक भी सही भविष्यवाणी नहीं कर सकते हैं कि अगले पल बाजार कैसे आगे बढ़ेगा क्योंकि फ़ाइनेंशियल मार्केट मनोभाव से चलते हैं और बाजार के मनोभाव बाजार की खबरों पर निर्भर करते हैं।

एक निवेशक आजकल बाजार की खबरों को आसानी से जान सकता है जो असल में सही हो सकती हैं या अफवाह या महज अटकलें हो सकती हैं। जहाँ सही खबरों पर आधारित निवेश के फैसले अच्छे परिणाम दे सकते हैं, वहीं अफवाहों या अटकलों पर आधारित निवेश के फैसलों से निवेशकों को नुकसान हो सकता है।

बिहेवियरल फाइनेंस थ्योरी के अनुसार, निवेशक स्वभाव से तर्कहीन होते हैं यानी शोध और जांच करके निवेश नहीं करते हैं, बल्कि झुंड मानसिकता की मानसिकता के साथ अलग-अलग मानसिक क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? और भावनात्मक पूर्वाग्रहों से प्रभावित होते हैं। इसलिए, बाजार की कोई भी गलत जानकारी निवेशकों में घबराहट पैदा कर सकती है जिससे निवेशकों की संपत्ति को भारी नुकसान हो सकता है।

Investment tips: अगर पहली बार शेयर बाजार में करते हैं निवेश तो इन 5 बातों का रखें ध्यान और चुने बेस्ट स्टॉक, लॉन्ग टर्म में मिलेगा बंपर रिटर्न

Best shares for investment: अगर आप शेयर बाजार में नए हैं तो निवेश के लिए सही स्टॉक का चयन करना कठिन होता है. अगर सही स्टॉक का चयन कर लिया जाता है तो लंबी अवधि में यह मल्टी बैगर रिटर्न साबित होगा. पोर्टफोलियो में किसी स्टॉक को शामिल करने से इन पांच बातों का जरूर ध्यान रखें.

Share Market Investment tips: कोरोना काल में शेयर बाजार के प्रति लोगों का नजरिया बदला और बहुत बड़े पैमाने पर नए निवेशक बाजार की तरफ आकर्षित हुए हैं. इस समय देश में 9 करोड़ के करीब डीमैट अकाउंट होल्डर्स हैं. वित्त वर्ष 2018-19 के अंत में देश में डीमैट अकाउंट होल्डर्स की संख्या महज 3.60 करोड़ के करीब थी. इससे साफ पता चलता है कि बाजार में नए निवेशकों की भरमार है. बाजार क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? में इस समय उठा-पटक जारी है. एक्सपर्ट लंबी अवधि के लिए निवेश की सलाह दे रहे हैं. ऐसे में निवेशकों के लिए सही स्टॉक का चयन करना बहुत जरूरी हो जाता है. नए निवेशकों के लिए यह बहुत कठिन काम है.

जिन प्रोडक्ट्स का करते हैं इस्तेमाल, वैसी कंपनियों को चुनें

बाजार के जानकारों के मुताबिक, नए निवेशकों ऐसे स्टॉक का सलेक्शन करना चाहिए जिनके प्रोडक्ट का वे इस्तेमाल करते हैं. अगर आप लंबी अवधि से किसी कंपनी का प्रोडक्ट इस्तेमाल कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे तो वह कंपनी एक अच्छा विकल्प है. उदाहरण के लिए FMCG और बैंकिंग क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? सर्विस की कंपनियां.

आपने जिस कंपनी का सलेक्शन किया वह रेवेन्यू जेनरेट कर रही है या नहीं, यह बेहद महत्वपूर्ण है. अगर कंपनी का रेवेन्यू बढ़ रहा है और प्रॉफिट ग्रोथ में भी उछाल आ रहा है तो यह अच्छी बात है. इसके साथ में कंपनी के कर्ज पर भी गौर करना जरूरी है. अगर कंपनी के कर्ज में लगातार गिरावट आ रही तो आपका स्टॉक सलेक्शन अच्छा है.

कंपनी की वैल्युएशन उचित हो

कंपनी की वैल्युएशन का सही पता लगाना जरूरी है. इसके लिए PE Ratio (प्राइस टू अर्निंग रेशियो), PEG Ratio (प्राइस अर्निंग टू ग्रोथ रेशियो), PB Ratio (प्राइस टू बुक रेशियो) का सहारा लिया जा सकता है. एक साल, तीन साल, पांच साल, सात साल, दस साल. इन नंबर्स के साथ अगर तमाम रेशियो का कैलकुलेशन करते हैं तो क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? यह पता लगाना आसान होगा कि रेवेन्यू और प्रॉफिट में ग्रोथ के साथ-साथ कंपनी की वैल्युएशन बढ़ रही है या नहीं.

इतना सबकुछ करने के बाद कंपनी का कॉर्पोरेट क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? गवर्नंस का सही होना जरूरी है. पिछले दिनों एयर इंडिया को टाटा ने खरीदा और सिर्फ टाटा के नाम पर एयर इंडिया के प्रति लोगों का नजरिया बदल गया. ऐसे में किसी भी कंपनी के फ्यूचल के लिए लीडरशिप का मजबूत होना जरूरी है. अगर कंपनी के प्रमोटर ने शेयर को प्लेज यानी गिरवी नहीं रखा है, तो यह अच्छा संकेत है. इन तमाम फैक्टर्स की मदद से निवेश के लिए सही कंपनी और स्टॉक का सलेक्शन किया जा सकता है.

Share Market में करना चाहते हैं निवेश की शुरुआत, जानिए शेयर बाजार की ABCD

Vikash Tiwary

Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Updated on: November 05, 2022 19:07 IST

Share Market में निवेश की शुरुआत करने से पहले ये जानें- India TV Hindi

Photo:INDIA TV Share Market में निवेश की शुरुआत करने से पहले ये जानें

What is Share Market: शेयर मार्केट में निवेश करना जोखिमों से भरा होता है। अगर आप नए हैं, आपने इससे पहले कभी किसी स्टॉक (Stock) में निवेश नहीं किया है और आपको इस बात की जानकारी नहीं है कि शेयर मार्केट क्या होता है और यह कैसे काम करता है? क्या स्टॉक मार्केट में सिर्फ शेयर ही खरीदे-बेचे जाते हैं? तो आज हम आपके इन सभी सवालों का जवाब इस खबर में देने जा रहे हैं।

शेयर मार्केट क्या है?

शेयर मार्केट एक ऐसा बाजार है, जहां खरीदार BSE(Bombay Stock Exchange) और NSE(National Stock Exchange) पर सूचीबद्ध शेयरों की खरीद-बिक्री करते हैं। यह सेबी(Securities and Exchange Board of India) के देखरेख में काम करता है। सेबी भारत सरकार की संस्था है जो शेयर बाजार में लिस्टेड कंपनियों पर नजर रखती है ताकि वह ग्राहक के साथ फ्रॉड ना कर सके। इसे दो भाग में क्लासिफाइड किया गया है। प्राइमरी और सेकेंडरी।

जब कोई कंपनी शेयरों के माध्यम से धन जुटाने के लिए पहली बार स्टॉक एक्सचेंज में खुद को रजिस्टर करती है तो उसे प्राइमरी कैटेगरी में रखा जाता है, वहीं एक बार जब कंपनी की नई सिक्योरिटी को प्राइमरी मार्केट में बेच दिया जाता है, तब उसका कारोबार सेकेंडरी में किया जाने लगता है। यहां निवेशकों को बाजार की मौजूदा कीमतों पर शेयर खरीदने और बेचने का मौका मिलता है।

शेयर के आलावा इनमें भी कर सकते हैं निवेश

स्टॉक एक्सचेंज में इन चार रूप (शेयर, बांड, म्यूचुअल फंड और Derivatives) में ट्रेडिंग होती है, जिसमें सबसे पहला स्थान शेयर का होता है। अगर आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के उतने फीसदी के हिस्सेदार हो जाते हैं। कंपनी के नफा-नुकसान का असर सीधे आपके उपर पड़ता है।

बांड लंबी अवधि के लिए खरीदे जाते हैं। जब एक कंपनी को पर्याप्त पूंजी की आवश्यकता होती है। पूंजी जुटाने का एक तरीका जनता को बांड जारी करना होता है। ये बांड कंपनी द्वारा लिए गए "ऋण" का प्रतिनिधित्व करते हैं। बांडधारक कंपनी के लेनदार बन जाते हैं और कूपन के रूप में समय पर ब्याज भुगतान प्राप्त करते हैं।

शेयर बाजार से करोड़पति बनने के लिए क्या है जरूरी, किस्मत या फिर अनुशासन, जानिए

Stock Market Investment Tips

अब मान लेते हैं कि तीनों निवेशकों ने एक साथ जुलाई 1990 से सितंबर 2022 तक Nifty50 में हर महीने 10000 हजार रुपए निवेश किया था. इन तीनों द्वारा 30 साल से अधिक समय तक निवेश किया गया है. अब क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? इन तीनों की स्थिति क्या होगी. तो इसका जवाब आसान है लकी निवेशक का निवेश किया हुआ पैसा सबसे अधिक होगा. वही दूसरे नंबर पर अनुशासित निवेशक होंगे. वहीं तीसरे नंबर पर अपने अनलकी निवेशक होंगे. पर यहां सोचने वाली बात यह है कि लकी निवेशक और अनुशासित निवेशक के 30 साल से अधिक इन्वेस्टमेंट के बाद दोनों के पोर्टफोलियो में या निवेश रिटर्न में कितना अंतर है.

शेयर बाजार में निवेश की कर रहे हैं प्‍लानिंग, तो कभी न भूलें ये जरूरी बातें

शेयर बाजार में निवेश की कर रहे हैं प्‍लानिंग, तो कभी न भूलें ये जरूरी बातें

स्‍टॉक मार्केट में निवेश से पहले जरूर जाननी चाहिए यह खास बातें (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

शेयर बाजार में निवेश करना जोखिम भरा माना जाता है। एक्‍सपर्ट के अनुसार, अगर कोई बिना पढ़े ही शेयर बाजार में पैसा लगाता है तो उसके फंड के डूबने का खतरा ज्‍यादा होता है। किसी भी कंपनी का शेयर खरीदने से पहले उसके वैल्‍यू, मार्केट कैप और अन्‍य चीजों के बारे में जरूर जानना चाहिए। साथ ही उस कंपनी के शेयर का एनलाइज और रिसर्च भी कर लेना चाहिए।

अगर आप स्‍टॉक मार्केट में नए हैं और निवेश की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो न सिर्फ आपको स्‍टॉक ही खरीदने चाहिए, बल्कि की कंपनी में हिस्‍सेदारी भी लेनी चाहिए। यहां पांच ऐसी चीजें बताई गई हैं, क्या आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं? जो किसी भी शेयरधारक को निवेश करने से पहले जानना चाहिए और हमेशा याद रखना चाहिए।

रेटिंग: 4.18
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 705