Market today: कमजोर ग्लोबल संकेतों से बाजार में गिरावट, जानिए सोमवार को कैसी रह सकती है इसकी चाल

BSE के सभी सेक्टर इंडेक्स में गिरावट रही। निफ्टी के भी सभी सेंक्टर इंडेक्स लाल निशान में बंद हुए हैं। आज रियल्टी, IT और फार्मा शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट रही है। पावर, ऑटो और कज्यूमर गुड्स शेयरों में भी बिकवाली रही है।

पावर, ऑटो और कज्यूमर गुड्स शेयरों में भी बिकवाली रही है। दिग्गजो की तरह छोटे-मझोले शेयर भी आज बिकवाली की शिकार हुए हैं

Market today: कमजोर ग्लोबल संकेतों के चलते बाजार में आज बिकवाली का दबाव रहा है। आज भी सेंसेक्स-निफ्टी दिन के निचले स्तर पर बंद हुए हैं। BSE के सभी सेक्टर इंडेक्स में गिरावट रही। निफ्टी के भी सभी सेंक्टर इंडेक्स लाल निशान में बंद हुए हैं। आज रियल्टी, IT और फार्मा शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट रही है। पावर, ऑटो और कज्यूमर गुड्स शेयरों में भी बिकवाली रही है। दिग्गजों की तरह छोटे-मझोले शेयर भी आज बिकवाली के शिकार हुए हैं। कारोबार के अंत में सेंसेक्स 461.22 अंक यानी 0.75 फीसदी की गिरावट के साथ 61,337.81 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं, निफ्टी 145.90 अंक यानी 0.79 फीसदी की गिरावट के साथ 18,269.00 के स्तर पर बंद हुआ है।

सेंसेक्स के 30 में से 27 शेयरों में गिरावट रही। वहीं, निफ्टी के 50 में से 45 शेयरों में बिकवाली रही। निफ्टी बैंक के 12 में से 11 शेयरों में गिरावट देखने को मिली।

निफ्टी पर आज सबसे ज्यादा चढ़ने और गिरने वाले Top-5 शेयर

संबंधित खबरें

Stock Market Crash: शेयर बाजार में क्यों मचा हाहाकार

मार्केट में तबाही, निवेशकों के ₹19 लाख करोड़ डूबे

Black Friday: सेंसेक्स-निफ्टी ने लगाया जबरदस्त गोता, कोरोना और मंदी सहित इन 4 वजहों से आज लुढ़का शेयर बाजार

NIFTYNEW

BSE के Top 5 ट्रेडिंग स्टॉक्स

bsen

टाटा मोटर्स, एचयूएल, नेस्ले इंडिया, एचडीएफसी बैंक और यूपीएल निफ्टी के टॉप गेनर रहे। वहीं, अडानी पोर्ट्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बीपीसीएल, एशियन पेंट्स और डॉ रेड्डीज निफ्टी के टॉप लूजर रहे।

बैंकिंग शेयरों की भी आज पिटाई होती दिखी। बैंक निफ्टी 0.64 फीसदी टूटकर 43,219.50 के स्तर पर बंद हुआ। फार्मा, ऑटो, आईटी,पीएसयू बैंक और मीडिया शेयरों की सबसे ज्यादा धुनाई हुई है। निफ्टी की ऑटो इंडेक्स 1.07 फीसदी टूटकर बंद हुआ है तो आईटी इंडेक्स 1.33 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुआ है। जबकि फार्मा इंडेक्स 1.40 फीसदी टूटा है। रियल्टी शेयरों में भी जोरदार बिकवाली हुई है। निफ्टी की रियल्टी इंडेक्स 1.51 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुआ है।

बीएसई पर नजर डालें तो बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 1.44 भारत की आगामी वित्तीय प्रवृत्ति? फीसदी की गिरावट के साथ 25739.21 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं, बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.96 फीसदी की गिरावट के साथ 29516.75 के स्तर पर बंद हुआ है। बीएसई हेल्थ केयर इंडेक्स 1.33 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ है। वहीं, बीएसई का बैंक इंडेक्स 0.68 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ है।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज (Geojit Financial Services) के विनोद नायर का कहना है कि आज ग्लोबल बाजारों की कमजोरी आगे बढ़ती दिखी। ECB और BoE ने भी ब्याज दरों में बढ़ोतरी का क्रम जारी रखा। इसके साथ महंगाई पर नियंत्रण के मुद्दे पर इनका हॉकिस नजरिया कायम रहा। इससे ग्लोबल बाजारों के साथ ही भारतीय बाजारों पर भी दबाव बढ़ता दिखा। महंगाई से लड़ने के लिए ग्लोबल सेंट्रल बैंकों के आक्रामक नजरिए ने ग्लोबल इकोनॉमी की हेल्थ को लेकर चिंता पैदा कर दी है। बार-बार दबाव से उबरे की कोशिश के बावजूद ग्लोबल बाजारों से मिल रहे निगेटिव संकेत ने बाजार को आज निगेटिव जोन में ढकेल दिया।

सोमवार को कैसी रह सकती है बाजर की चाल

मेहता इक्विटीज (Mehta Equities) के प्रशांत तापसे (Prashanth Tapse) का कहना है कि ग्लोबल मार्केट की तर्ज पर आज भारतीय बाजारों में भी बिकवाली रही। दुनियाभर में इस तरह की चर्चा गर्म है कि यूएस फेड महंगाई और ब्याज दरों में बढ़त पर अपने रवैये में जल्द कोई बदलाव नहीं करने वाला है। इस तरह के संकेत मिल रहे हैं कि यूएस फेड अपनी दरों को 4.6 फीसदी से बढ़ा कर 5.1 फीसदी पर ले जा सकता है। इस समय महंगाई सबसे बड़ी चिंता बनी हुई है। ऐसे में दुनिया भर के सेंट्रल बैंक इससे निपटने में लगे हुए हैं। तकनीकी नजरिए से देखें तो निफ्टी के लिए 18001 के मनोवैज्ञानिक लेवल पर सपोर्ट दिख रहा है। वहीं, ऊपर की तरफ 18697 के स्तर पर पहली बाधा दिख रही है।

कोटक सिक्योरिटीज (Kotak Securities) के अमोल अठावले का कहना है कि कमजोर ग्लोबल संकेतों के बीच बाजार में आज जोखिम से बचने की प्रवृत्ति हावी रही। भारतीय बाजारों में एक बार फिर से विदेशी निवेशकों की बिकवाली देखने को मिल रही है। इससे भी मार्केट सेंटीमेंट खराब हुआ है। टेक्निकल नजरिए से देखें तो डेली चार्ट पर लोअर टॉप फॉर्मेशन और इंट्राडे चार्ट पर डबल टाप रिवर्सल फॉर्मेशन बाजार में करेंट लेवल से और बिकवाली आने का संकेत दे रहे हैं।

निफ्टी ने न सिर्फ 18400 का अपना अहम सपोर्ट तोड़ दिया है बल्कि इसके नीचे बंद हुआ है। अब निफ्टी के लिए अगला सपोर्ट इसके 50 day SMA यानी 18100-18000 पर होगा। वहीं, ऊपर की तरफ 18400 पर निफ्टी के लिए पहला रजिस्टेंस है। अगर निफ्टी इस बाधा को पार कर लेता है तो फिर ये हमें एक बार फिर से अपना 20-day SMA यानी 18550 का स्तर छूता नजर आ सकता है। इसके बाद निफ्टी 18700 की तरफ जाता दिख सकता है।

डिस्क्लेमर: मनीकंट्रोल.कॉम पर दिए गए विचार एक्सपर्ट के अपने निजी विचार होते हैं। वेबसाइट या मैनेजमेंट इसके लिए उत्तरदाई नहीं है। यूजर्स को मनी कंट्रोल की सलाह है कि कोई भी निवेश निर्णय लेने से पहले सर्टिफाइड एक्सपर्ट की सलाह लें।

MoneyControl News

MoneyControl News

Tags: # share markets

First Published: Dec 16, 2022 3:41 PM

हिंदी में शेयर बाजार, Stock Tips, न्यूज, पर्सनल फाइनेंस और बिजनेस से जुड़ी खबरें सबसे पहले मनीकंट्रोल हिंदी पर पढ़ें. डेली मार्केट अपडेट के लिए Moneycontrol App डाउनलोड करें।

भारत की आगामी वित्तीय प्रवृत्ति?

Hit enter to search or ESC to close

एमएसएमई सेक्टर को बजट से हैं ये अपेक्षाएं, 2023 के लिए भी बनी हैं ये उम्मीदें

.

बिज़नेस न्यूज़ डेस्क - साल 2023 का बजट आने में अब महज एक महीने से थोड़ा ही ज्यादा का समय बचा है। इसको लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कई उद्योग संगठनों और संस्थानों के साथ बैठकों का दौर भी पूरा कर चुकी हैं। उद्योग जगत के संगठनों ने अपनी उम्मीदें और आकांक्षाएं वित्त मंत्री के सामने रख दी हैं और अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि इन्हें कैसे पूरा किया जाता है और बजट 2023 से उन्हें क्या मिलता है। अर्थव्यवस्था। इस सेक्टर को बजट से क्या उम्मीदें हैं, आप इस लेख में यहां जान सकते हैं। वर्ष 2023 उस समय को दर्शाता है जब भारत अमृत काल में प्रवेश कर रहा है। आने वाले 25 सालों में साल 2047 आएगा, जो हमारी आजादी का 100वां साल होगा, जिस साल तक हमारा लक्ष्य विकसित देश या विकसित अर्थव्यवस्था बनने का है। इन 25 वर्षों में अर्थव्यवस्था की रीढ़ एमएसएमई की वृद्धि यह निर्धारित करने में एक महत्वपूर्ण कारक होगी कि हम इस लक्ष्य को प्राप्त करते हैं या मध्यम-आय वाले बने रहते हैं। PHDCCI ने अगले साल 2 बड़े रुझानों की भविष्यवाणी की है जैसे MSME क्षेत्र का तेजी से विस्तार, आयात में कमी और डिजिटल परिवर्तन।

देश को आत्मनिर्भर बनाने की सरकार की इच्छा और मेक इन इंडिया योजना एमएसएमई को क्षमता बढ़ाने और घरेलू बाजारों तक पहुंचने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। अगले साल, हम उम्मीद कर सकते हैं कि एमएसएमई आयात को अपने उत्पादों से बदल देंगे और घरेलू बाजार पर कब्जा कर लेंगे। यह सरकार द्वारा दिए गए खरीद समर्थन और वोकल फॉर लोकल अभियान को और बढ़ावा देगा। यह स्वदेशी रक्षा निर्माण के लिए विशेष रूप से सच है। रक्षा खरीद खुलने के साथ, हम अधिक से अधिक एमएसएमई को रक्षा निर्माण क्षेत्र में प्रवेश करते हुए देख रहे हैं और हमें उम्मीद है कि यह प्रवृत्ति जारी रहेगी। MSMEs द्वारा डिजिटल तकनीक को व्यापक रूप से अपनाना एक और प्रवृत्ति है जिसकी हम अगले वर्ष उम्मीद कर भारत की आगामी वित्तीय प्रवृत्ति? सकते हैं। वे दिन गए जब MSMEs केवल कुछ प्रक्रियाओं को डिजिटाइज़ करना चाहते थे, आज वे पूर्ण डिजिटाइज़ेशन और डिजिटल समाधानों को अपनाने की दिशा में गंभीर प्रयास कर रहे हैं। यूपीआई, जीएसटी और ई-कॉमर्स ने एमएसएमई को तेजी से डिजिटल होने और बेहतर रिटर्न पाने का मौका दिया है।यह काफी हद तक आगामी केंद्रीय बजट पर निर्भर करता है कि एमएसएमई क्षेत्र का विकास और रुझान अगले साल कैसा रहेगा। 2023-24 का केंद्रीय बजट भू-राजनीतिक संघर्ष, उच्च मुद्रास्फीति और आर्थिक विकास में वैश्विक मंदी के अनिश्चित वातावरण में प्रस्तुत किया जा रहा है।

शुक्रवार सुबह स्टॉक वायदा सपाट था

दिसंबर की बिक्री फिर से शुरू होने और सांता क्लॉज की रैली की उम्मीद फीकी पड़ने के कारण रात भर की चाल ने बाजारों के लिए एक और डाउन सत्र का पालन किया। डॉव 348.99 अंक या 1.05% गिर गया, लेकिन 803 अंक के निचले स्तर पर बंद हुआ। एसएंडपी 500 और नैस्डैक कंपोजिट ने 1.45% और 2.18% की गिरावट दर्ज की।

माइक्रोन टेक्नोलॉजी के लिए मांग की चिंताओं पर सेमीकंडक्टर शेयरों के शेयरों में गिरावट के कारण प्रौद्योगिकी शेयरों में गिरावट आई। मांग गिरने के डर से टेस्ला ने भी लगभग 9% बहाया। सभी प्रमुख एसएंडपी 500 सेक्टर गिरावट के साथ बंद हुए, जिससे उपभोक्ता धारणा में गिरावट आई।

उन चालों ने मंदी की आशंकाओं को फिर से जगा दिया, कुछ निवेशकों की साल के अंत में रैली की उम्मीदों को धराशायी कर दिया। निवेशकों को चिंता है कि दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों की अतिशयोक्ति अर्थव्यवस्था को मंदी की ओर धकेल सकती है।

सोलस अल्टरनेटिव एसेट मैनेजमेंट के मुख्य रणनीतिकार डैन ग्रीनहॉस ने गुरुवार को सीएनबीसी के “क्लोजिंग बेल: ओवरटाइम” पर कहा, “व्यापक बाजार और आर्थिक दृष्टिकोण से, अगला साल कुछ अलग नहीं है।” “प्रवृत्ति अभी भी जगह में है।”

2022 के अंत तक, स्टॉक तीन साल के लाभ के दौर को समाप्त करने के लिए भी तैयार है। इसने 2008 के बाद से अपना सबसे खराब वार्षिक प्रदर्शन पोस्ट किया. दिसंबर में, डॉव में 4.5% की गिरावट के साथ, सभी प्रमुख औसत लगातार दो महीनों की जीत की गति पर हैं। एसएंडपी और नैस्डैक क्रमशः 6.3% और लगभग 8.7% गिर गए।

निवेशक शुक्रवार को आने वाले अतिरिक्त आर्थिक आंकड़ों का इंतजार कर रहे हैं, जिसमें नवंबर व्यक्तिगत उपभोग व्यय रिपोर्ट – फेडरल रिजर्व की मुद्रास्फीति का पसंदीदा उपाय – और व्यक्तिगत आय शामिल है। न्यू होम सेल्स और दिसंबर कंज्यूमर सेंटीमेंट इंडेक्स जारी किया जाएगा।

“बीयर विशेषज्ञ। आजीवन ट्विटर व्यवसायी। उत्सुक पाठक। आयोजक। बेकन प्रशंसक। निर्माता। विशिष्ट टीवी अधिवक्ता।”

सीपीएम की बड़े पैमाने पर 'सुधार' अभियान की योजना

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के नेतृत्व में एलडीएफ के सत्ता में आने के बाद अपने नेताओं और कैडर के बीच बुर्जुआ प्रवृत्तियों में वृद्धि को देखते हुए, सीपीएम नौ साल के अंतराल के बाद एक जोरदार 'सुधार' अभियान के लिए जा रही है।

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के नेतृत्व में एलडीएफ के सत्ता में आने के बाद अपने नेताओं और कैडर के बीच बुर्जुआ प्रवृत्तियों में वृद्धि को देखते हुए, सीपीएम नौ साल के अंतराल के बाद एक जोरदार 'सुधार' अभियान के लिए जा रही है। सीपीएम के राज्य सचिव एम वी गोविंदन ने टीएनआईई को बताया, "राज्य सचिव से शुरू होकर, राज्य सचिवालय और राज्य समिति सहित, शाखा सदस्यों की सबसे निचली इकाई सहित सभी गुट आत्म-आलोचना की एक विस्तृत प्रक्रिया के अधीन होंगे।"

"प्रत्येक सदस्य प्रक्रिया के अधीन होगा। प्रत्येक समिति अपनी गलतियों पर चर्चा करेगी। उन्हें सुधारने के लिए कदम उठाए जाएंगे, "उन्होंने कहा। सीपीएम राज्य समिति, जिसकी दो दिवसीय बैठक गुरुवार को संपन्न हुई, ने प्रक्रिया के लिए मंजूरी दे दी। यह निर्णय 'संगठनात्मक क्षेत्र में समकालीन राजनीति और पार्टी की तात्कालिक जिम्मेदारियां' दस्तावेज पर हुई चर्चा के आधार पर लिया गया।

चर्चा में, पार्टी नेतृत्व ने 2021 में एलडीएफ के सत्ता में बने रहने के बाद संगठन में नौकरशाही का आधिपत्य देखा। इसके अलावा, सहकारी बैंकों जैसे पार्टी-नियंत्रित संस्थानों को वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों का सामना करना पड़ रहा है। मध्य स्तर के नेताओं की आय से अधिक संपत्ति की शिकायतें और अभ्यावेदन भी नेतृत्व तक पहुंचे थे।

इसके अलावा, सीपीएम शासित स्थानीय स्व-सरकारी संस्थान नौकरी में घोटाले से लेकर वित्तीय धोखाधड़ी तक के गंभीर आरोपों का सामना कर रहे हैं। युवा कैडर और नेताओं में शराब की लत की प्रवृत्ति भी बढ़ रही थी, जबकि करुवन्नूर सहकारी बैंक धोखाधड़ी और तिरुवनंतपुरम निगम में पोस्टिंग को लेकर हुए विवाद ने पार्टी और सरकार पर भारी पड़ गया, नेतृत्व ने कहा।

गोविंदन ने कहा कि सीपीएम ऐसी किसी भी प्रवृत्ति को बर्दाश्त नहीं करेगी, जिसे जनता का समर्थन नहीं है। "पार्टी ने मीडिया द्वारा रिपोर्ट की गई कुछ प्रवृत्तियों की जांच की और लोहे की मुट्ठी के साथ मुद्दों को हल करने के लिए हस्तक्षेप करने का फैसला किया। सीपीएम एक कंपार्टमेंटल संस्था नहीं है। समाज में मूल्यों का पतन इसमें भी परिलक्षित होगा। यह अस्वीकार्य है, "उन्होंने कहा।

सीपीएम नेतृत्व का मानना है कि चूंकि केरल अकेला राज्य है जहां पार्टी सत्ता में है, इसलिए पश्चिम बंगाल या त्रिपुरा जैसी स्थिति यहां नहीं होनी चाहिए। सीपीएम का केंद्रीय नेतृत्व भी 2024 के लोकसभा चुनाव में केरल से अधिक से अधिक सीटें जीतना चाहता है।

सीपीएम केंद्रीय नेतृत्व ने पहली बार 1996 में एक पार्टी दस्तावेज़ के आधार पर और फिर 2009 में सुधार अभियान चलाया था। 2013 में, राज्य नेतृत्व ने पलक्कड़ में एक प्लेनम का आयोजन किया था। पार्टी के विचारक एस रामचंद्रन पिल्लई ने टीएनआईई को बताया, "यह एक महत्वपूर्ण और आत्म-आलोचनात्मक प्रक्रिया है।" "इसका उद्देश्य कैडर और समग्र स्थिति का मूल्यांकन करना है। हम न केवल पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा से बल्कि तत्कालीन यूएसएसआर और अन्य कम्युनिस्ट शासित देशों से भी सबक लेते हैं।

कैग रिपोर्ट -मार्च 2021 तक 198 सरकारी कंपनियों और निगमों को भारत की आगामी वित्तीय प्रवृत्ति? 2,00,419 करोड़ रुपये का घाटा

नई दिल्ली
नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट में कहा गया है कि 31 मार्च, 2021 तक 198 सरकारी कंपनियों और निगमों को 2,00,419 करोड़ रुपये का घाटा हुआ और इनमें से 88 कंपनियों की कुल संपत्ति घाटे के कारण पूरी तरह खत्म हो गई। केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों (सीपीएसई) की केंद्र सरकार (वाणिज्यिक) की सामान्य प्रयोजन वित्तीय रिपोर्ट-2022 की रिपोर्ट संख्या 27 गुरुवार को संसद में पेश की गई, जिसमें कहा गया है, "31 मार्च, 2021 तक इन कंपनियों का कुल शुद्ध मूल्य 1,13,894 करोड़ रुपये तक नकारात्मक हो गया था। इन 88 कंपनियों में से केवल 20 ने वर्ष 2020-21 के दौरान 973 करोड़ रुपये का लाभ कमाया।"

यह रिपोर्ट 453 सरकारी कंपनियों और निगमों (छह वैधानिक निगमों सहित) और 180 सरकार-नियंत्रित अन्य कंपनियों से संबंधित है। कम से कम 84 सीपीएसई (सरकार द्वारा नियंत्रित 23 अन्य कंपनियों सहित) जिनके खाते तीन साल या उससे अधिक समय से बकाया थे या परिसमापन के अधीन थे या पहले खाते देय नहीं थे, इस रिपोर्ट में शामिल नहीं हैं।

सरकारी कंपनियों और निगमों द्वारा दाखिल रिटर्न पर आधारित रिपोर्ट में कहा गया है कि 251 सरकारी कंपनियों और निगमों ने 2020-21 के दौरान 1,95,677 करोड़ रुपये का लाभ कमाया, जिसमें से 72 प्रतिशत (1,40,083 करोड़ रुपये) का योगदान 97 सरकारी कंपनियों और निगमों द्वारा किया गया। तीन क्षेत्रों – बिजली, पेट्रोलियम और वित्तीय सेवाएं। इन 251 सीपीएसई में इक्विटी पर रिटर्न (आरओई) वित्तवर्ष 2019-20 में 224 सीपीएसई में 13.54 प्रतिशत की तुलना में वित्तवर्ष 2020-21 में 16.34 प्रतिशत था।

सरकारी निवेश पर वास्तविक रिटर्न की दर (आरओआरआर) पर कैग की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस रिपोर्ट में शामिल 633 सीपीएसई में से 195 सीपीएसई में केंद्र सरकार का प्रत्यक्ष निवेश है। 173 सीपीएसई (58 सूचीबद्ध सीपीएसई और 115 गैर-सूचीबद्ध सीपीएसई) के संबंध में आरओआरआर की गणना 2000-01 से ऐतिहासिक लागत पर रिटर्न की पारंपरिक दर के साथ तुलना करने के लिए की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार, वित्तवर्ष 2019-20 में 46.78 प्रतिशत की ऐतिहासिक लागत पर वापसी की पारंपरिक दर की तुलना में आरओआरआर 17.52 प्रतिशत था। आरओआरआर ने 2006-07 तक बढ़ती प्रवृत्ति दिखाई है, जिसके बाद पिछले पांच वर्षो के दौरान इसमें गिरावट शुरू हुई। वित्तवर्ष 2016-17 में 10 प्रतिशत और 2020-21 तक 23 प्रतिशत की गिरावट रही।

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि 112 सरकारी कंपनियों और निगमों ने वित्तवर्ष 2020-21 के दौरान 80,105 करोड़ रुपये का लाभांश घोषित किया। इसमें से केंद्र सरकार द्वारा प्राप्त/प्राप्ति योग्य लाभांश की राशि 36,982 करोड़ रुपये थी, जो सभी सरकारी कंपनियों और निगमों में केंद्र सरकार द्वारा कुल निवेश (5,12,547 करोड़ रुपये) पर 7.22 प्रतिशत रिटर्न का प्रतिनिधित्व करती है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत 10 सरकारी कंपनियों ने 28,388 करोड़ रुपये का योगदान दिया, जो सभी सरकारी कंपनियों और निगमों द्वारा घोषित कुल लाभांश का 35.44 प्रतिशत है।

कैग की रिपोर्ट के मुताबिक, "20 सीपीएसई द्वारा लाभांश की घोषणा पर भारत सरकार के निर्देश का अनुपालन न करने के कारण वर्ष 2020-21 के लिए तय लाभांश के भुगतान में 9,449 करोड़ रुपये की कमी हुई।"

रिपोर्ट के अनुसार, वर्ष 2020-21 के दौरान 173 सीपीएसई को घाटा हुआ। वर्ष 2020-21 के दौरान इन कंपनियों को हुआ घाटा 2019-20 के 67,845 करोड़ रुपये की तुलना में घटकर 42,876 करोड़ रुपये रह गया।

रेटिंग: 4.87
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 133